संतुलित आहार लें, रहें बराबर फिट

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। संतुलित आहार सेहत के लिए जरूरी है। ‘हिंदुस्तान लाइव’ ने कानपुर यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेज की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. भारती दीक्षित के हवाले से बताया है कि डाइट चार्ट बराबर इस अंदाज में बना होना चाहिए कि उसमें कैलरी खर्च होने के अनुपात पर जोर हो।

तीन घंटे का नियम रखें याद
वैसे तो डाइटीशियन बैलेंस डाइट चार्ट बनाते समय क्या कब खाना है, भी बता देते हैं पर फिर भी इस चार्ट का असर अच्छा हो, इसके लिए जरूरी है कि खाना खाने के सही समय का ध्यान भी रखा जाए। इसके लिए आपको दिनभर में ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर वाले तीन आहार नहीं, बल्कि पूरे पांच आहार का सेवन करना होगा। इन सबके बीच कम से कम तीन घंटे के अंतराल की बात भी पक्की करनी होगी। तीन घंटे से ज्यादा का अंतराल शरीर पर गलत असर डालता है। दरअसल तीन घंटे से ज्यादा का समय शरीर में तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन यानी कोर्टिसॉल को बढ़ा देता है। इसकी वजह से पेट पर वसा की परतें बढ़ती हैं।

बढ़ाएं सक्रियता
आप बैलेंस डाइट चार्ट का पूरा पालन कर रही हैं। पर असर नहीं हो रहा है। आप अभी भी उतना ही अस्वस्थ महसूस करती हैं। तो जरा अपनी जीवनशैली पर ध्यान दें। फिर देखिए आप दिनभर में कितना सक्रिय रहने लगेंगी। व्यायाम न सही, पर आप अपने खुद के कामों के लिए ही बार-बार उठें, बैठें, चलें। अगर ऐसा नहीं करती हैं तो अपनी दिनचर्या में कुछ चीजों को शामिल कर लीजिए। जैसे, अपने काम खुद ही कीजिए। भले ही सिर्फ पानी पीने के लिए किचन तक जाने की बात हो या अपने कपड़े हैंगर में टांगने हों, ऐसे काम करती रहें और सक्रिय रहें।

किसमें कौन सा पोषक तत्व है, जानिए
भले ही  डाइटीशियन  ने आपके लिए डाइट चार्ट बनाया हो पर ऐसा तो है नहीं कि आप उसमें लिखी चीजों के अलावा कुछ खाएंगी नहीं। इसलिए जरूरी है कि आपके पास ऐसे खाद्य पदार्थों की सूची हो, जिसमें वे पोषक तत्व सबसे ज्यादा हों, जिन्हें आपके लिए जरूरी बताया गया है। जो आप रोज के खाने की सूची में शामिल भले ना करें, पर कभी-कभी खाने में उसे शामिल कर सकें। मान लीजिए कि आपके लिए प्रोटीन फायदेमंद बताया गया है तो दूध के अलावा, पनीर, अंडे, टोफू, सोयाबीन का दूध, सोयाबीन की बड़ियां वगैरह का विकल्प आप अपने लिए तैयार रख सकती हैं। आपको आवश्यक पोषक तत्व किन-किन चीजों में मिलेंगे, आपको पता होना चाहिए या डायटिशियन से पूछ सकती हैं।

प्रोसेस्ड फूड को कहिए अलविदा
प्रोसेस्ड फूड जैसे चिप्स, जूस आदि को जिंदगी से निकालिए। इनकी जगह फलों को दीजिए। इनको खाने के लिए किचन का रास्ता भी नहीं तय करना होता है। कहीं बाहर होने पर भी फल आसानी से साथ ले जा सकती हैं।

 

संबंधित ख़बरें...