सोशल मीडियाः कोई कंटेंट शेयर करने से पहले सोचें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। सोशल मीडिया पर विचार, राय, चित्र और वीडियो साझा करना अब आम बात हो गई है लेकिन अगर इसमें सावधानी नहीं बरती जाए तो फिर न सिर्फ आपको बल्कि दूसरों को भी परेशानी में डाल सकता है। लोग कोई कंटेंट भेजते हैं तो उन्हें अंदाजा होता है कि अगला इन्हें दूसरों के साथ भी शेयर कर सकता है और उसे इस पर कोई आपत्ति नहीं होगी लेकिन अगर आप इस बारे में निश्चित नहीं हैं तो ऐसा करने से पहले अच्छी तरह से सोच-विचार कर लें। उसे भेजने वाले व्यक्ति से यह पूछना और भी बेहतर होगा कि अगर आप उसे साझा करेंगे, तो उसे बुरा तो नहीं लगेगा। अगर आप ऐसी फ़ोटो या वीडियो साझा कर रहे हैं, जिनमें अन्य लोग मौजूद हैं। तब भी यही बात लागू होती है। टैग, रीपोस्ट या उन्हें आगे भेजने से पहले पूछें। अगर कोई व्यक्ति आपसे कुछ ऐसा साझा करता है, जिसमें कोई अन्य व्यक्ति हैं, तो खुद से कुछ सवाल करें। क्या मुझे यह भेजने वाले व्यक्ति का तात्पर्य इसे साझा करना है। क्या उन्हें इसमें मौजूद व्यक्ति की अनुमति है।

अगर कोई व्यक्ति ऐसी कोई चीज़ साझा करता है, जिसमें मैं हूं, तो मुझे कैसा लगेगा। अगर आपको प्राप्त हुई चीज़ों को साझा करने से कोई व्यक्ति बुरा दिखता है। वह उन्हें शर्मिंदा करेंगी या उन्हें क्षति पहुंचाएंगी। तो उसे फारवर्ड न करें। संभव हो जिस व्यक्ति ने आपको वह भेजा है। उसने मज़ाक किया हो, लेकिन अगर कोई गलत व्यक्ति कुछ देख लेता है, तो मज़ाक मज़ेदार नहीं रहता। बहुत से लोग विशेष रूप से कुछ रसिकमिजाज मित्र अश्लील फोटो भी भेजते हैं। उन्हें शेयर करने से परहेज करें। अगर किसी मित्र ने कुछ ऐसा पोस्ट किया है, जो आपने उन्हें भेजा था, तो पहले उन्हें उसे हटाने के लिए कहें। अगर आपको किसी ऐसी फ़ोटो में टैग किया गया है, जो आपको पसंद नहीं है, तो याद रखें कि बहुत-सी फ़ोटो-साझाकरण और सोशल-नेटवर्किंग साइटें आपको ऐसे सभी चित्रों से अपना नाम हटाने का विकल्प दे सकती हैं, जिनमें आपको टैग किया गया है। अब तो सरकार भी इसको लेकर सख्ती के मूड में है। उसका मानना है कि सोशल मीडिया के जरिये अराजकतत्व अफवाह फैला कर जन-धन की क्षति का कारण बन रहे हैं।

यह भी पढ़ें–जय माता दी और हेल्मेट

यह भी पढ़ें–योगीजी! यह मंत्री बदलेंगे पैंतरा

संबंधित ख़बरें...