धूमधाम से मनी विश्वकर्मा जयंती

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा जयंती पर सोमवार को कल-कारखानों सहित सरकारी विभागों की कार्यशालाओं और शिक्षण संस्थाओं में पूजनोत्सव हुए। नगर के रूईमंडी स्थित  विश्वकर्मा मंदिर में विश्वकर्मा समाज के लोगों ने रामचरितमानस पाठ किया। फिर हवन-पूजन के साथ प्रसाद वितरण हुआ। इस मौके पर हुई गोष्ठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 68 वें जन्म दिवस की बधाई दी गई। गोष्ठी में प्रसिद्ध साहित्यकार गजाधर शर्मा गंगेश ने कहा कि जीवन की नैतिकता मनुष्य को समग्र विकास की ओर प्रेरित करती है तथा समाज मे स्थापित करती है। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जीवन लोक कल्याण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। भाजपा जिला मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा ने कहा कि राष्ट्र को सम्मान व विकास के परम वैभव पर स्थापित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नवभारत निर्माण का सपना उनके कर्मठता व लग्नशीलता के कारण आज जनान्दोलन का रुप ले लिया है। स्वच्छता का नारा सिर्फ नारा ही नहीं लोगों के दैनिक जीवन मे प्रवेश कर चुका है। इस अवसर पर साहित्यकार पत्रकार रामावतार, विश्वकर्मा समाज के जिलाध्यक्ष जनार्दन शर्मा, अंगद शर्मा, विनीत शर्मा, सुनील विश्वकर्मा, विजय कुमार विश्वकर्मा, दीनदयाल शर्मा, देवेंद्र विश्वकर्मा, अजय विश्वकर्मा, किशन शर्मा, सनद आदि थे।

सकरताली में भी विश्वकर्मा समाज के लोगों ने अपने अधिष्ठाता कर्म व श्रम के देवता की पूजा अराधना भक्ति के साथ कर प्रसाद का वितरण किया। विश्वकर्मा पूजनोत्सव अवसर पर विश्वकर्मा समाज के लोगों ने लंका बस स्टैंड के पास भगवान विश्वकर्मा का सामूहिक हवन- पूजन के साथ भंडारा हुआ। यह कार्यक्रम देर शाम तक चलता रहा। सैकड़ों लोगों ने भंडारा में प्रसाद ग्रहण किया। इस आयोजन में किशन शर्मा,मुकेश विश्वकर्मा, सुनील शर्मा, विजय कुमार विश्वकर्मा, रामजी विश्वकर्मा, अनिल विश्वकर्मा, श्याम, बबलू, अभिषेक शर्मा, राहुल आदि ने सक्रिय भूमिका निभाई।

शाह फैज पब्लिक स्कूल में भी भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनी। कार्यक्रम के प्रारंभ में स्कूल के चालक ओमप्रकाश ने भवगान विश्वकर्मा की विधिवत पूजा की। निदेशक डॉ.नदीम अदहमी ने भगवान विश्वकर्मा के व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहे कि शिल्प ज्ञान के अभाव में निर्माण संभव नहीं है और भगवान विश्वकर्मा शिल्प के देवता थे। स्कूल की कैप्टन अंजली सिंह ने विश्वकर्मा पूजा के महत्व की चर्चा की। इसी तरह गौरीशंकर पब्लिक स्कूल में भी विश्वकर्मा पूजा हुई। प्रबंधक राजेश्वर सिंह ने बताया कि १७ सितंबर को ही ब्रह्मा के सातवें धर्म पुत्र के रूप में भगवान विश्वकर्मा ने जन्म लिया था। वह दुनिया के पहले इंजीनियर थे। उसके पूर्व श्री सिंह ने भगवान विश्वकर्मा के चित्र पर माल्यार्पण किया। सत्यप्रकाश त्रिपाठी ने हवन-पूजन किया। कार्यक्रम में कार्यकारी निदेशक रीता सिंह के अलावा सीनेट हाउस की सदस्य अनुपमा सहित वाइस प्रिंसिपल चंदना बनर्जी, मीना पांडेय, विजय शंकर राय, प्रमिला पाल, गंजाला, साक्षी, अनुराग, सत्यम, फहद, राजेश, प्रशांत, संध्या, आकांक्षा, नीतू, लवली, नीलम, रेनू, जितेंद्र, संपूर्णानंद, अर्चिता आदि थे। संचालन आराधना सिंह ने किया। अंत में प्रिंसिपल भारती पांडेय ने आभार जताया।

यह भी पढ़ें–क्या! शराब की फिर मिली बड़ी खेप

यह भी पढ़ें–शिवपाल एक कदम और बढ़े