सुखद ! वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए इलाज संभव

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर : अब मरीजों को बेहतर चिकित्सकीय परामर्श व इलाज के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। विशेष चिकित्सकों की टीम वीडियो कांफ्रेंसिंगके जरिए मरीजों का इलाज करेगी। टेली मेडिसिन व टेली रेडियोलोजी सुविधा से लैस होते ही बड़े शहरों जैसे दिल्ली, मुंबई के चिकित्सक मरीजों को बेहतर उपचार के लिए सलाह दे सकेंगे। इस व्यवस्था से चिकित्सकों की कमी भी आड़े नहीं आएगी। इस सुविधा से जोड़ने की कवायद शुरू कर दी गई है। बेहतर इलाज के अभाव में शहर सहित ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को अन्य जनपदों का सहारा लेना पड़ता है। खासकर जिला अस्पताल व सीएचसी- पीएचसी पर विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी से चिकित्सकीय सुविधा का लाभ नहीं मिल पाता है।

ऐसी स्थिति में गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों को इलाज के लिए जहां निजी अस्पतालों का सहारा लेना पड़ता है। कई तरह के आर्थिक दंश का भी सामना करना पड़ता है। जनपद में विशेषज्ञ चिकित्सकों व रेडियोलाजिस्ट की कमी को देखते हुए शासन की ओर से वीडियो कांफ्रे¨सग के जरिए यहां के मरीजों को जोड़ने की कवायद शुरू कर दी गई। टेली मेडिसिन व टेली रेडियोलोजी की सुविधा से जनपद जनवरी माह के अंतिम सप्ताह तक लैस हो जाएगा। यहीं नहीं, मोबाइल मेडिकल यूनिट की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। इसको लेकर तैयारियां भी शुरू कर दी गईं हैं। इस तरह होगा इलाज टेली मेडिसिन के तहत लोगों को टेली कंसल्टेंसी और वीडियो कंसल्टेंसी के तौर पर दो तरह से सुविधाएं मिलेंगी, जबकि टेली रेडियोलोजी में रेडियोलाजिस्ट की निगरानी में एक्सरे, सीटी स्कैन, एमआरआई की सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी।

टेली मेडिसिन में आनलाइन विशेषज्ञ डाक्टर मरीज से वीडियो कांफ्रेंसिंगके माध्यम से जुड़ेंगे। इस सिस्टम में चिकित्सक व मरीज एक दूसरे से रूबरू होंगे। मरीजों की जांच रिपोर्ट पढ़कर चिकित्सक रोग के बारे में जान लेंगे। इसके बाद उसे दवा लिखकर पर्ची भी दी जाएगी। इस सुविधा का लाभ ग्रामीण अंचलों के मरीजों को आसानी से मिल सकेगा। यहीं नहीं, विशेष चिकित्सकों व रेडियोलाजिस्ट की कमी भी दूर हो जाएगी। जनवरी माह के अंत तक इस सुविधा से सरकारी अस्पताल लैस किए जाएंगे ।

यह भी पढ़ें- ओमप्राकाश इतने खफा क्यों

यह भी पढ़ें- और 16 लोग गिरफ्तार

संबंधित ख़बरें...