सरकारी गोचर बनाने के आश्वासन पर खुला विद्यालय का ताला

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर : ग्रामीणों ने शुक्रवार को प्राथमिक विद्यालय बारोडीह की चहारदीवारी में छुट्टा पशुओं को बंद कर शिक्षक व बच्चों को अंदर जाने से मना कर दिया। प्रधानाध्यापक ने इसकी जानकारी डायल 100 व विभागीय अधिकारियों को दी। छुट्टा पशुओं द्वारा फसल बर्बाद होने से किसान आक्रोशित थे। एसडीएम विजय शंकर तिवारी के आश्वासन पर किसान शांत हुए। इसके बाद दोपहर 12 बजे छुट्टा पशुओं को बाहर निकाला गया।

तब परिसर की सफाई कर पठन-पाठन का कार्य शुरू कराया जा सका। प्राथमिक विद्यालय बारोडीह की चहारदीवारी में गुरुवार की शाम ग्रामीण 50-60 छुट्टा पशुओं को पकड़कर बंद कर दिया। अगले दिन विद्यालय पहुंचे शिक्षक और छात्रों को घंटों बाहर इंतजार करना पड़ा। किसान प्रशासन को बुलाने पर अड़ गए। उनका कहना था कि छुट्टा मवेशी फसल को बर्बाद कर देते हैं। प्रधानाध्यापक आलोक कुमार ने खंड शिक्षाधिकारी सुनील कुमार सिंह व भुड़कुड़ा पुलिस को इसकी जानकारी दी।

शिक्षक व छात्र गेट के बाहर खड़े रहे। उप जिलाधिकारी विजयशंकर तिवारी व क्षेत्राधिकारी आलोक कुमार भी पहुंच गए। किसानों ने बताया कि दो दिन पहले आजमगढ़ जनपद की सीमा पर अन्यत्र से छुट्टा पशुओं को छोड़ा गया है। प्रशासन इन जानवरों के रख-रखाव की व्यवस्था करे। उप जिलाधिकारी विजय शंकर तिवारी ने कहा कि सरकारी गोचर गांव-गांव में बनाने की तैयारी चल रही है।

यह भी पढ़ें- जल्द बहुरेंगे हमीद सेतु के दिन

यह भी पढ़ें- आखिर क्यो पीटे जीई ग्रामीणों से

संबंधित ख़बरें...