बैंक मित्र को सरेराह गोली मार सवा सात लाख की लूट

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बाराचवर। लोकसभा चुनाव को लेकर सुरक्षा के पोख्‍ता इंतजाम के पुलिसिया दावे की दुसाहसी अपराधियों ने बुधवार की सुबह पोल खोलकर रख दी। बाईक सवार दो बदमाशों ने यूबीआई के बैंक मित्र दयाशंकर यादव (35) को गोली मारकर उनके कब्‍जे से सात लाख सात हजार की नकदी व लैपटॉप लूट ली। गोली से जख्‍मी दयाशंकर को पहले सीएचसी बाराचवर फिर जिला अस्‍पताल पहुंचाया गया। गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्‍सकों ने उन्‍हें वाराणसी रेफर कर दिया। दयाशंकर मूलत: मुहम्‍मदाबाद कोतवाली के परानपुर गांव के रहने वाले हैं और बाराचवर चट्टी पर मकान बनाकर परिवार संग रहते हैं। लूट की घटना बरेसर थाना के अमवां की सती माई धाम के गेट के पास परसा तिराहीपुर मार्ग पर करीब सवा दस बजे हुई। दयाशंकर के मुताबिक वह बाराचवर स्थित मकान से बाईक से अपने फ्रेंचाईजी सेंटर पर जा रहे थे। उसी बीच अचानक पीछे से आए बाईक सवार बदमाशों ने उन पर गोली दागी। गोली उनके बाएं कंधे में लगी। तब बाईक से उनका नियंत्रण छूट गया और वह गिर पड़े। उसके बाद बदमाश उनका बैग छिनने लगे। वह शोर मचाते हुए उनसे उलझ गए। उनकी आवाज सुन आसपास खेतों में काम कर रहे किसान माजरा देख मौके की ओर ईंट-पत्‍थर बरसाते हुए लपके लेकिन तब बदमाश रुपये से भरे उनका बैग, लैपटॉप लेकर रसड़ा (बलिया) के रास्‍ते निकल भागे। सूचना मिलने के बाद पुलिस कप्‍तान डॉ. अरविंद चतुर्वेदी भी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी लेने के बाद लुटेरों की गिरफ्तारी के लिए आवश्‍यक निर्देश दिए। एसओ बरेसर हेमंत सिंह ने बताया कि घटना में शामिल बदमाशों की अवस्‍था 20 से 25 साल के बीच थी। वह इलाकाई भाषा का इस्‍तेमाल कर रहे थे। उन्‍होंने घटना में 12 बोर के तमंचे का इस्‍तेमाल किया। एसओ बरेसर की मानी जाए तो यह किसी नए गैंग की कारस्‍तानी है। हैरानी नहीं कि इसी गैंग ने बीते शनिवार की शाम कासिमाबाद थाना क्षेत्र में युसूफपुर मार्ग स्थित प्रभुनारायण सिंह डिग्री कॉलेज के पास एक अन्‍य बैंक मित्र अभिषेक ठाकुर संग हुई लूट को अंजाम दिया। उस लूट में भी बदमाशों ने गोली दागी थी और करीब तीन लाख नकद तथा लैपटॉप, स्‍वैप मशीन, दो मोबाइल फोन उनके हाथ लगे थे। इससे यह भी लगता है कि इस गैंग के लिए बैंक मित्र साफ्ट टारगेट हैं। मजे की बात यह कि इस दुसाहसिक घटना के लिए पुलिस महकमा अपनी नाकामी कबूलने के बजाए पीडि़त बैंक मित्र को ही जिम्‍मेदार बता रहा है। घटना के कुछ देर बाद जिला मुख्‍यालय पर एएसपी सिटी प्रदीप शुक्‍ल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि नकदी को इधर से उधर ले जाने के लिए बैंक मित्रों को अपने स्‍तर से सुरक्षा के इंतजामात करने चाहिए। मालूम हो कि पुलिस महकमा लोकसभा चुनाव को लेकर चौकसी बरतने की बात कर रहा है। प्राय: हर रोज कहीं न कहीं रूट मार्च भी हो रहा है।

संबंधित ख़बरें...