अफजाल के लिए गाजीपुर में 13 मई को होगी मायावती-अखिलेश की रैली

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। पूर्व सांसद अफजाल अंसारी की गुजारिश सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कबूल ली है। वह बसपा मुखिया मायावती संग गाजीपुर में 13 मई को आईटीआई मैदान में अफजाल अंसारी के समर्थन में चुनावी रैली करेंगे। इस रैली को लेकर जहां सपाजन खुश हैं वहीं बसपा के लोग भी खासे उत्‍साहित हैं। गाजीपुर संसदीय सीट सपा गठबंधन के तहत बसपा के लिए छोड़ दी है। बसपा अफजाल अंसारी को गठबंधन का उम्‍मीदवार बनाने के‍ लिए अपनी ओर से गाजीपुर संसदीय क्षेत्र का प्रभारी भी घोषित कर चुकी है। अफजाल अंसारी बीते 26 मार्च को लखनऊ में सपा मुखिया अखिलेश यादव से मिले थे और उन्‍होंने चुनाव अभियान के दौरान गाजीपुर में बसपा मुखिया संग चुनावी रैली करने का आग्रह किए थे। जाहिर है कि गाजीपुर संसदीय सीट पर सपा का पूरा प्रभाव है। इस नाते बसपा नहीं चा‍हती कि सपा की ओर से ऐसा कोई मौका मिले जिसे विरोधी अपने लिए इस्‍तेमाल कर पाएं। बसपा के चुनाव अभियान प्रबंधन से जुड़े लोगों की मानी जाए तो अखिलेश यादव के साथ ही सपा के अन्‍य स्‍टार प्रचारकों को भी गाजीपुर बुलाया जाएगा। इनमें सपा सांसद धर्मेंद्र यादव का नाम प्रमुख है। कोशिश यही रहेगी कि गाजीपुर में प्रमुख जगहों पर उनकी चुनावी सभाएं हों। सपा में अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के बाद धर्मेंद्र यादव ही ऐसे नेता हैं जिनकी गाजीपुर में खासी पहचान है। गाजीपुर में सपा के कई कार्यकर्ताओं को धर्मेंद्र यादव सकल और नाम से पहचानते हैं। वैसे चर्चा है कि अखिलेश यादव पर गाजीपुर में साझी रैली करने का दबाव न सिर्फ बसपा मुखिया मायावती का है बल्कि खुद अखिलेश यादव भी चाहेंगे कि वह गाजीपुर आएं। वजह वह गाजीपुर से सटे आजमगढ़ संसदीय सीट से चुनाव लड़ेंगे। वहां के मुस्लिम वोटरों को रिझाने के लिए गाजीपुर में अफजाल अंसारी के वास्‍ते काफी मुफीद रहेंगे। शायद उन्‍हें पता है कि अंसारी बंधुओं का आजमगढ़ सहित पूर्वांचल के कई संसदीय क्षेत्रों के मुस्लिम वोटरों पर अच्‍छा प्रभाव है।

यह भी पढ़ें- क्या भाजपा छोड़ेगी घोसी सीट!

यह भी पढ़ें- अरूण से मिले अक्षय प्रताप!

संबंधित ख़बरें...