आंधी-तूफान के साथ पड़े ओले, पूर्व ग्राम प्रधान की मौत

http://ghazipuraajkal.com/93716/

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर :  शनिवार की रात चमक-गरज के साथ आयी आंधी और बारिश से किसानों की चिताएं बढ़ा दी। आंधी से दिलदारनगर क्षेत्र के धनाड़ी गांव में झोपड़ी गिरने से उसमें दबकर पूर्व प्रधान सिद्धनाथ यादव (60) की मौत हो गई। उधर जखनियां के महार में हाईटेंशन तार टूटकर गिरने से खेत में आग लग गई, जिससे एक बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। बारिश से खेतों में खड़ी एवं खलिहानों में काट कर रखे गए दलहन, तिलहन व गेहूं के बोझ भींग गए। हालांकि दूसरे दिन रविवार को दोपहर बाद धूप निकलने पर किसानों ने राहत की सांस ली। उन्होंने भींगे फसल का बोझ खोलकर उसे सुखाना शुरू कर दिया। शनिवार की शाम से ही आसमान पर बादलों की आवाजाही शुरू हो गई थी। रात होते-होते बादल काफी घने हो गए। आधी रात के बाद तेज गरज-चमक शुरू हो गई। तेज हवाओं के चलते लोगों की नींद खुल गई। इसी बीच बारिश शुरू होने से किसानों में अफरा-तफरी मच गई। इस दौरान खूब ओले भी पड़े। दूसरे दिन सुबह आसमान पर बादल जमे रहे लेकिन दोपहर बाद मौसम खुला तो किसानों की जान में जान आई। उन्होंने अपनी फसल को सुखाना शुरू कर दिया।

रेवतीपुर | रात में हुई बारिश के साथ ओले पड़ने से पूरी फसल भीग गई। फसल भींग जाने से उसकी मड़ाई और पीछे हो गई है। साथ ही खलिहान में रखे चना, मटर, मसूर आदि फसलों को उलटने-पलटने के लिए सुबह से ही किसान खलिहान में जमे हुए हैं। मरदह क्षेत्र में आंधी और बारिश से खेत में लगी गेहूं की फसल बरसात से खेत में गिर गयी है, जिससे कटाई-मड़ाई का कार्य अधर में पड़ गया है।

दिलदारनगर | थाना क्षेत्र के धनाढ़ी गांव में रात आयी आंधी तूफान के बाद मड़ई में जाना पूर्व प्रधान सिद्धनाथ यादव को महंगा पड़ा। मड़ई गिर जाने से उनकी मौत हो गयी। वहीं अन्य तीन लोग घायल हो गए। घायलों का उपचार नगर के निजी अस्पताल में कराया गया। ग्रामीणों ने बताया कि रात में पूर्व प्रधान अपने भाई और अन्य लोगों के साथ अहाते में सोये थे। रात्रि 12 बजे तेज हवा और बूंदाबांदी शुरू हुई तो लोग चारपाई लेकर मड़ई में चले गए तथी तेज हवा से अचानक मड़ई गिर गयी जिससे उसमें सो रहे लोग दब गए। चीख-पुकार सुनकर परिजन सहित अगल-बगल के लोग पहुंचे और मड़ई को उठाकर उसमें दबे सभी लोगों को बाहर किया। सभी घायलों को निजी अस्पताल में उपचार के लिए ले गए लेकिन चिकित्सकों ने पूर्व प्रधान को मृत घोषित कर दिया। वहीं भाई चंद्रशेखर (45), श्रवण (30) सहित एक अन्य घायल थे।

जखनिया | क्षेत्र के पदुमपुर गांव निवासी दयाशंकर सिंह के महार स्थित खेत में हाईटेंशन विद्युत तार टूटकर गिरने से एक बीघा गेहूं की खड़ी फसल जलकर राख हो गई। लोगों ने मिट्टी व पानी से किसी तरह से आग बुझाई गई। ग्रामीणों ने बताया कि इस जर्जर तार से हाईटेंशन विद्युत आपूर्ति की जाती थी जिसे बदलने के लिए विभाग के अधिकारियों को जानकारी दी गई थी। उसके बाद भी विभाग की लापरवाही का खामियाजा किसान को भुगतना पड़ा। दयाशंकर सिंह ने बताया कि संयोग अच्छा था कि आग बुझ गई नहीं तो 50 बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो जाती।

सेवराई | तेज आंधी-तूफान और पानी के साथ पत्थर से तहसील क्षेत्र के गोड़सरा, बरेजी, महना, सायर, सतरामगंज बाजार, सेवराई, लहना, मनिया समेत कई गांव में दर्जनों टीनशेड उड़ गए। महना गांव में करीब आधा दर्जन से ऊपर घरों के सीमेंट शीट टूट कर गिर गए। तेज आंधी से बिजली का खंभा भी टूट कर नीचे गिर गया जिसकी जानकारी लोगों ने बिजली विभाग को कर्मचारियों को देकर आपूर्ति बंद कराई। इससे रविवार को पूरे दिन बिजली आपूर्ति ठप रही।

यह भी पढ़े – क्या पाया गया लग्जरी गाड़ी में

संबंधित ख़बरें...