बसपा नेता संतोष यादव थामेंगे भाजपा का दामन, 23 को करेंगे ऐलान

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। भाजपा और बसपा-सपा गठबंधन में सेंधमारी का खेल शुरू हो गया है। जहां बसपा कुछ दिन पहले पूर्व विधायक उमाशंकर कुशवाहा को भाजपा से अपने पाले में खींच ले गई, वहीं अब बारी भाजपा की है। बसपा के असरदार नेता संतोष यादव को अपनी ओर खींचने की पूरी तैयारी भाजपा कर ली है। फिलहाल इस बाबत भाजपा के लोग कुछ भी कहने से बच रहे हैं। भाजपा जिलाध्‍यक्ष भानुप्रताप सिंह ने इस सवाल पर कहा कि अभी वह कुछ नहीं कह सकते। जब संतोष यादव भाजपा में आएंगे तब सबको खुद ही पता चल जाएगा, लेकिन गाजीपुर आजकल डॉट कॉम ने सीधे संतोष यादव को ही फोन लगाया। बिना लाग लपेट स्‍वीकारे कि वह भाजपा में शामिल होंगे। बताए कि 23 अप्रैल को अपने आध्‍यात्मिक गुरु व उत्‍तराखंड सरकार के कैबिनेट मंत्री सतपाल जी महाराज की मौजूदगी में सादात में आयोजित जनसभा में वह भाजपा की सदस्‍यता ग्रहण करेंगे। उस मौके पर केंद्रीय मंत्री व गाजीपुर संसदीय सीट के भाजपा उम्‍मीदवार मनोज सिन्‍हा भी मौजूद रहेंगे। संतोष यादव का भाजपा में जाना बसपा-सपा गठबंधन के लिए बड़ा झटका माना जाएगा। संतोष यादव का जखनियां इलाके में अच्‍छा प्रभाव है। साथ ही यदुवंशी समाज के युवकों पर भी इनकी खासी पकड़ है। संतोष यादव की पत्‍नी गीता यादव सादात ब्‍लाक की प्रमुख रह चुकी हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में बसपा उन्‍हें सदर सीट से अपने टिकट पर लड़ाई भी थी। बाद में उन्‍हें पार्टी से निष्‍काषित भी कर दी थी, लेकिन दोबारा उनकी बसपा में वापसी भी हो गई थी। संतोष यादव को भाजपा में लाने के पीछे शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े और केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्‍हा के बेहद करीबी का दिमाग बताया जा रहा है। वैसे संतोष यादव से जुड़े लोगों का कहना है कि बसपा में अपनी उपेक्षा से वह आहत थे। राजनीति हलके में माना जा रहा है कि संतोष यादव को अपने साथ लाकर भाजपा जखनियां क्षेत्र में अपनी स्थिति और बेहतर कर ली है।

यह भी पढ़ें- भाजपा की यह कैसी शर्त

यह भी पढ़ें- बेचारा निरहुआ! रमाकांत की ‘बददुआ’

संबंधित ख़बरें...