भाजपा का साथ छोड़ने के मूड में ओमप्रकाश राजभर, गाजीपुर सहित 25 सीटों पर उतारेंगे अपने उम्मीदवार

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) और भाजपा का साथ शायद अब नहीं चलेगा। लोकसभा चुनाव में सीटों की हिस्‍सेदारी को लेकर सुभासपा एकदम बागी तेवर में है। सुभासपा की कार्यकारिणी की सोमवार को रसड़ा (बलिया) में हुई आपात बैठक में तय हुआ कि पार्टी भाजपा के खिलाफ 25 संसदीय सीटों पर अपना उम्‍मीदवार उतारेगी। गाजीपुर संसदीय सीट से उसके उम्‍मीदवार पार्टी जिलाध्‍यक्ष कै. रामजी राजभर होंगे। पार्टी के विश्‍वस्‍त सूत्रों ने बताया कि उम्‍मीदवारों की अधिकृत घोषणा 16 अप्रैल की सुबह लखनऊ में पार्टी विधायक त्रिवेणी राम के सरकारी आवास पर मीडिया के सामने होगी। आखिर भाजपा के खिलाफ सुभासपा के इस फैसले का कारण क्‍या है। सूत्रों ने बताया कि भाजपा नेतृत्‍व सुभासपा को मात्र एक संसदीय सीट घोसी छोड़ रही थी। साथ ही उसकी शर्त थी कि उस सीट पर उसके राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर खुद लड़ेंगे। उनका चुनाव निशान भाजपा का कमल होगा। इसके पहले उन्‍हें प्रदेश सरकार का कैबिनेट मंत्री का पद छोड़ना होगा। भाजपा की यह शर्त ओमप्रकाश राजभर को मंजूर नहीं थी। एक प्रमुख दैनिक समाचार पत्र के मुताबिक ओमप्रकाश राजभर और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की शनिवार की रात घंटेभर बातचीत चली थी, लेकिन भाजपा की शर्त मानने से ओमप्रकाश राजभर ने साफ मना कर दिया था। उसके बाद ओमप्रकाश राजभर दोबारा मुख्‍यमंत्री आवास पर पहुंचे थे और अपना इस्तीफा मुख्‍यमंत्री के स्‍टाफ को देना चाहे थे, लेकिन मुख्‍यमंत्री के स्‍टाफ ने लेने से मना कर दिया था।

यह भी पढ़ें- शेम-शेम! छात्रसंघ अध्यक्ष हेरोइन तस्कर

यह भी पढ़ें- अफजाल के नामांकन की तारिख तय

संबंधित ख़बरें...