आखिर क्यों?

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

पूरी हो गईं मांगें फिर भी हड़ताल जारी है
झगड़ा तो खत्म हो गया फिर भी पड़ताल जारी है

घर खुद फूंक ताप कर बैठा है मालिक मकान का
फिर भी लोगों का लेकर आना मशाल जारी है

ना बाजार खुले हैं न कोई खरीदार दिख रहा
अभी दामों में फिर भी देखिए उछाल जारी है

वादी मर गया गवाह लापता न मुजरिम ही जिंदा
जिरह फिर भी तो अदालत में पुरसवाल जारी है

है देश सदमे में दुनिया दंग देख कर सब फिर भी
अपने माननीयों का संसद में बवाल जारी है

डॉ एम डी सिंह

संबंधित ख़बरें...