गठबंधन का दावा होगा फेल!, भाजपा का बढ़ेगा वोट

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। लोकसभा चुनाव के लिए मतदान का काम रविवार को खत्‍म हो गया। इसके साथ ही नतीजे को लेकर दावे-प्रतिदावे का दौर शुरू हो गया है। बहरहाल नतीजा चाहे जैसा आए। असल फैसला 23 मई को मतगणना के बाद ही आएगा, लेकिन मतदान के वक्‍त जो रूझान दिखा उससे यही लग रहा है कि सपा-बसपा गठबंधन का भाजपा पर चार लाख से अधिक वोट की बढ़त का दावा फेल हो सकता है। उधर भाजपा पिछले बार के चुनाव से कहीं ज्‍यादा वोट अपने खाते में जोड़ सकती है।

चुनाव अभियान के दौरान गठबंधन के लोग मान रहे थे कि यादवों का पूरा वोट उनके खाते में आएगा, लेकिन कई जगह यादव समाज भाजपा उम्‍मीदवार मनोज सिन्‍हा के विकास के मुद्दे पर बटन दबाया है। इसी तरह गठबंधन कुशवाहा समाज में भी अपना पूरा हक जता रहा था, लेकिन यह समाज पूरी तरह नहीं टूटा है। बल्कि भाजपा का भी ख्‍याल रखा है। यही हाल बिंद समाज का माना जा रहा है। बिंद समाज में भी भाजपा अपना आकर्षण बनाए रखी है, जबकि भाजपा अपने अगड़े सहित वैश्‍य वोट बैंक को पूरी तरह सुरक्षित रखने में सफल रही है। यहां तक कि भाजपा के लोग यादव के साथ मुस्लिम वोट बैंक में भी सेंधमारी का दावा कर रहे हैं। राजभर समाज को भी अपने से दूर जाने से रोकने में भाजपा खुद को बहुत हद तक कामयाब मान रही है। बावजूद गठबंधन के लोग अपनी जीत को लेकर पूरा आश्‍वस्‍त हैं। इनकी मानी जाए तो वह सैदपुर, जखनियां तथा जंगीपुर में भाजपा को ठीक से लीड देंगे। जमानियां में भी उनकी बढ़त रहेगी। सदर विधानसभा क्षेत्र में गठबंधन भाजपा को कड़ी टक्‍कर देने में कामयाब रहेगा। गठबंधन के लोग यादव तथा मुस्लिम वोट बैंक में भाजपा की सेंधमारी की बात को फुलावी ख्‍याल बता रहे हैं। इसके उलट अपनी पक्‍की जीत मान रहे भाजपा के लोगों का कहना है कि सैदपुर, जंगीपुर और जखनियां में गठबंधन से मिली मामूली लीड का हिसाब वह सदर विधानसभा क्षेत्र में ही पूरा कर देंगे। जमानियां में भी उनकी बढ़त रहेगी। चुनाव विश्‍लेषकों की मानी जाए तो पिछले चुनाव की तुलना में बढ़े मतदान का औसत भी नतीजे को प्रभावित करेगा। भाजपाजन भी अपनी जीत के दावे के पीछे बढ़े मतदान प्रतिशत को जोड़ रहे हैं।

संबंधित ख़बरें...