अफजाल का चला आठ घंटे धरना, दिल्ली तक पहुंची आवाज

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। ईवीएम में छेड़छाड़ की आशंका को लेकर सपा-बसपा गठबंधन के उम्‍मीदवार अफजाल अंसारी का कृषि मंडी समिति जंगीपुर के गेट पर धरना करीब आठ घंटे के बाद मंगलवार की भोर में करीब चार बजे खत्‍म हुआ। उस मौके पर सपा विधायक डॉ. वीरेंद्र यादव सहित हजारों लोग मौजूद रहे। श्री अंसारी को आशंका थी कि सरकारी पार्टी भाजपा के दबाव में प्रशासन मतदान के बाद जंगीपुर कृषि मंडी समिति के स्‍ट्रांग रूम में रखी ईवीएम के साथ छेड़छाड़ कर सकता है। लिहाजा वह निगरानी के लिए विधानसभा क्षेत्रवार बने स्‍ट्रांग रूमों के सामने हर आठ घंटे की शिफ्ट के हिसाब से अपने पांच लोगों की मौजूदगी की इजाजत मांगने प्रशासन के पास पहुंचे थे, लेकिन डीएम के बालाजी अपने अधिकार क्षेत्र का हवाला देते हुए मात्र तीन लोगों को इजाजत देने पर सहमत थे। इस बात से खून्‍नस में आए अफजाल अंसारी सीधे जंगीपुर मंडी समिति पहुंच गए। फिर तो प्रशासन में हड़कंप मच गया। प्रशासनिक सहित पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। यह खबर मिलते ही गाजीपुर संसदीय सीट के सभी पांच विधानसभा क्षेत्रों से भी गठबंधन के लोग वहां धमक गए। कई बार उनकी प्रशासन से तिखी नोक-झोंक भी हुई। आखिर में डीएम स्‍ट्रांग रूमों की निगरानी के लिए आठ घंटे की एक शिफ्ट में पांच लोगों को मौजूद रहने की इजाजत दी। अफजाल अंसारी की यह भी मांग थी कि स्‍ट्रांग रूमों के पीछे खाली पड़े मैदान में आमजन की आवाजाही रोकने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बलों के जवानों की तैनाती की जाए, लेकिन डीएम ने फिर अपने अधिकार क्षेत्र का हवाला देते हुए असमर्थता जताई और पीएसी के जवानों को तैनात करने की बात कही। उस बीच बसपा के राष्‍ट्रीय महासचिव सतीष चंद्र मिश्र फोन के जरिये अफजाल अंसारी से बराबर संपर्क में बने रहे। आखिर में उन्‍होंने निर्वाचन आयोग तक अफजाल अंसारी की बात पहुंचाई। आयोग के अधिकारियों ने इस सिलसिले में शाम को उनके लिए मिलने का समय दिया। उसके बाद धरना खत्‍म हो गया। धरने में शामिल गठबंधन के लोगों के तेवर काफी तल्‍ख थे। पूरे धरने तक उनमें कोई हटने को तैयार नहीं था। सपा के वरिष्‍ठ नेता मुनन्‍न यादव ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही भाजपा के दबाव में प्रशासन बेहिचक बेईमानी कर रहा है। यहां तक कि भाजपा के लोगों ने कई बार खुलेआम चुनाव आचार संहिता का उल्‍लंघन किया, लेकिन प्रशासन हर बार अपना आंख-कान बंद रखा है। बावजूद गाजीपुर में गठबंधन की शानदार जीत होगी। भाजपा की बेईमानी का जवाब गाजीपुर की जनता देगी।

यह भी पढ़ें- महिला उच्चका गैंग ऐसा

यह भी पढ़ें- अरे! हिंयुवा को शोक

संबंधित ख़बरें...