अनंतनाद में शहीद महेश कुशवाहा सैनिक सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। सीआरपीएफ के शहीद जवान महेश कुशवाहा शुक्रवार को पूरे सैनिक सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन हो गए। शहर से सटे उनके जैतपुरा गांव के गंगा घाट पर दाह संस्कार हुआ। वृद्ध पिता गोरखनाथ कुशवाहा ने मुखाग्नि दी। उस मौके पर मौजूद जनसमूह की आंखें नम हो गईं। उसके पूर्व सीआरपीएफ के जवानों ने अपने शहीद साथी को शस्त्रों के साथ अंतिम विदाई दी।

जनसमूह के बीच से पाकिस्तान मुर्दाबाद-भारत जिंदाबाद के नारे रह-रह कर गूंज रहे थे। सभी के दिल में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा झलक रहा था। मालूम हो कि महेश कुशवाहा बुधवार की दोपहर कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों से लोहा लेते वक्त अपने अन्य चार साथियों संग शहीद हो गए थे। उनका पार्थिव शरीर कश्मीर से हवाई मार्ग के जरिये गुरुवार को वाराणसी एयरपोर्ट लाया गया। जहां मौजूद सीआरपीएफ जवानों ने उन्हे सलामी दी। साथ ही प्रदेश सरकार की ओर से राज्य मंत्री डॉ.नीलकंठ तिवारी ने शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया।

फिर शहीद का पार्थिव शरीर सड़क मार्ग से काफिले के साथ रात में उनके पैतृक गांव जैतपुरा लाया गया। काफिले में जैतपुरा तक साथ आए डॉ.नीलकंठ तिवारी ने शहीद की पत्नी निर्मला को सरकार की ओर से 20 लाख तथा पिता गोरखनाथ कुशवाहा को पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद का चेक दिया। साथ ही उन्होंने शहीद के परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी और शहीद के नाम पर जैतपुरा की सड़क का नामकरण की घोषणा की।

अंतिम यात्रा के वक्त डीएम के बालाजी ने भी शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया। पुलिस कप्तान डॉ.अरविंद चतुर्वेदी ने शहीद को अपना कंधा दिया।

 

इस मौके पर बसपा के नवनिर्वाचित सांसद अफजाल अंसारी के प्रतिनिधि पूर्व विधायक सिबगतुल्ला अंसारी, सपा की पूर्व विधायक किस्मत देवी, भाजपा जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह, सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश कुशवाहा सहित राजनीतिक कार्यकर्ताओं के अलावा हजारों लोग मौजूद थे।

 

शहीद की अंतिम यात्रा को लेकर बैरिकेडिंग तथा प्रकाश की व्यवस्था गाजीपुर नगर पालिका की ओर से की गई थी। खुद नगर पालिका चेयरमैन सरिता अग्रवाल अपने पति पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल के साथ शहीद के अंतिम दर्शन के लिए पहुंची थीं। पार्थिव शरीर जैतपुरा आने से पहले शहीद के घर पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा भी पहुंचे थे। शहीद की पत्नी तथा पिता सहित परिवार के अन्य सदस्यों से मिले और उनका ढांढस बंधाए। कहे कि इस दुख की घड़ी में केंद्र तथा प्रदेश सरकार और भाजपा उनके साथ है।

संबंधित ख़बरें...