लोकसभा में अफजाल ने हिंदी में ली शपथ

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। नवनिर्वाचित सांसद अफजाल अंसारी ने 17 वीं लोकसभा के पहले सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को सदस्य पद की शपथ हिंदी में ली। यह भी इत्तेफाक ही था कि तब लोकसभा में एकतरह से नारों का मुकाबला हो रहा था। लोकसभा सत्र के दूसरे दिन भाजपा सदस्यों की ओर से भारत माता की जय, वंदे मातरम, जय श्रीराम, मंदिर वहीं बनाएंगे आदि नारे सुनाई पड़े। जवाब में तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने भी जय दुर्गा, जय काली के नारे जड़े। हैदराबाद से लोकसभा में फिर पहुंचे असदुद्दीन ओवैसी जब शपथ लेने लगे तब भाजपा के कुछ सदस्यों ने जय श्रीराम और वंदे मातरम के नारे लगाए। ओवैसी भी अपना नारा खत्म करने के बाद भाजपा सदस्यों के नारे का जवाब जय भीम, जय मीम, अल्लाह हो अकबर और जयहिंद का नारा बोल कर दिए, लेकिन अफजाल अंसारी ने अपने शपथ के पहले अथवा बाद में कोई नारा नहीं लगाया। अफजाल अंसारी की शपथ के बोल थे-“मैं अफजाल अंसारी लोकसभा का सदस्य निर्वाचित हुआ हूं। सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा। मैं भारत की प्रभुता और अखंडता अक्षुण्ण रखूंगा। जिस पद पर ग्रहण करने वाला हूं, उसके कर्तव्यों का श्रद्धा पूर्वक निर्वहन करूंगा“। शपथ लेने के बाद अफजाल शिष्टाचार में लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर डॉ.वीरेंद्र कुमार से हाथ मिलाना भी नहीं भूले।

अफजाल को मिलेगी कोठी!

गाजीपुर। सांसद अफजाल अंसारी के समर्थकों का मानना है कि लोकसभा सचिवालय की ओर से उन्हें इस बार रहने के लिए दिल्ली में फ्लैट की जगह कोठी मुहैया कराई जाएगी। अव्वल तो वह दूसरी बार लोकसभा में पहुंचे हैं। पहली बार वह वर्ष 2004 में गाजीपुर के सांसद चुने गए थे। इसके अलावा अफजाल अंसारी कई बार उत्तर प्रदेश विधानसभा के सदस्य भी रह चुके हैं। इस बीना पर वह कोठी के हकदार हैं। फिलहाल उनको अस्थाई रूप से वेस्टर्न कोर्ट 213 में ठहराया गया है। एक इत्तेफाक यह भी है कि पहली बार अफजाल गाजीपुर संसदीय सीट भाजपा के मनोज सिन्हा से छीने थे और इस बार भी उनका मुकाबला मनोज सिन्हा से ही था। फर्क यही कि इस बार मनोज सिन्हा बतौर केंद्रीय मंत्री मुकाबिल थे। यह भी कि अफजाल को पहली बार सपा का टिकट था और इस बार सपा से गठबंधन में बसपा के वह उम्मीदवार रहे।

यह भी पढ़ें–पूर्वाचल एक्सप्रेस वेः बलिया लिंक के लिए भूमि अधिग्रहण कब

संबंधित ख़बरें...