फरार प्रेमी युगल लौटा घर, पंचों ने लगवा दिए सात फेरे

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बाराचवर। प्यार-मुहब्बत में स्वजातीय पंचों के अमर्यादित और अमानवीय फैसले के किस्से प्रायः सुनने, देखने को मिल जाते हैं, लेकिन थाना बरेसर के मलाड़ी गांव के बिरादरी के पंचों का फैसला वाकई सराहनीय रहा। अपने घरों से फरारी के बाद लौटे बालिग प्रेमी युगल को बिरादरी के पंचों ने दोनों की राजीखुशी जानने के बाद मंदिर में उनके सात फेरे लगवाने का फैसला किया और फिर वह विवाह के बंधन में बंध गए। वाकया गुरुवार का है।

गांव की दलित बस्ती की युवती अनिता का प्रेम संबंध बस्ती के ही युवक श्यामसुंदर राम से काफी दिनों से चल रहा था। एक सप्ताह पूर्व वह दोनों अपने घरों से फरार हो गए। उनके घरवाले कोशिश कर उनके ठिकाने का पता कर लिए। फिर उन्हें घर लौटने को राजी कर लिए। लौटने के बाद बिरादरी की पंचायत बैठी। पंचों ने सुझबूझ दिखाई। दोनों से उनके दिल की बात जानी गई। वह एक साथ जीने-मरने का अपना संकल्प दोहराए। तब पंचों ने उनके परिवारीजनों को इसके लिए अपना मन-मिजाज बनाने को कहा। पंचों के समझाने पर परिवारीजन भी मान गए। उसके बाद पंचों के निर्देश पर पड़ोस के गांव खारा के शिवालय में वह दोनों भगवान शिव को साक्षी मान परिणय सूत्र में बंध गए। इस शादी के बिरादरी के पंचों सहित अन्य कई लोग गवाह बने। पंचों का यह सकारात्मक फैसला और प्रेमी युगल के फरारी से लगायत विवाह बंधन तक का किस्सा क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। बताया जा रहा है कि एक साल पहले भी यह जोड़ा फरार हुआ था, लेकिन अपने घरवालों के दबाव में लौट आया था।

यह भी पढ़ें–…और अफजाल बोले

संबंधित ख़बरें...