सीडीओ के औचक निरीक्षण में गैरहाजिर मिले कई गजेटेड ऑफिसर

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश का जिला स्तरीय अधिकारियों और कर्मचारियों पर कोई असर नहीं है। कम से कम गाजीपुर में तो यही स्थिति है। इसका प्रमाण सोमवार की सुबह मिला। डीएम के बाला जी के आदेश पर सीडीओ हरिकेश चौरसिया ने विकास भवन में स्थित कई विभागीय कार्यालयों का 10ः05 बजे औचक निरीक्षण किया।

निरीक्षण में जिला विद्यालय निरीक्षक, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, सहायक अभियंता लघु सिंचाई, जिला दिव्यांग
जन कल्याण अधिकारी, अधिशासी अभियंता ग्रामीण अभियंत्रण, वित्त एवं लेखाधिकारी माध्यमिक शिक्षा, वित्त एवं लेखाधिकारी बेसिक शिक्षा, जिला कार्यक्रम अधिकारी, परियोजना अधिकारी नेडा तथा जिला युवा कल्याण अधिकारी अनुपस्थित मिले। इनके अलावा जिला विद्यालय निरीक्षक के पांच, पशुपालन विभाग आठ, ग्रामीण अभियंत्रण सेवा छह, कृषि विभाग दो, सहकारिता दो, पंचायत राज दस, लघु सिंचाई तीन, जिला कार्यक्रम अधिकारी चार, बेसिक शिक्षा सात, उप बेसिक शिक्षा नगर एक, युवा कल्याण दो, मत्स्य विभाग दो, जिला विकास कार्यालय एक,  मनरेगा सेल एक, डीआरडीए पांच, कौशल विकास एक और अल्पसंख्यक विभाग कार्यालय में एक कर्मचारी गैर हाजिर मिला।

सीडीओ ने सभी गैर हाजिर मिले अधिकारियों, कर्मचारियों का एक दिन का वेतन रोकने का आदेश दिया है। साथ ही उन अधिकारियों से जवाब तलब किया है जबकि कर्मचारियों के बाबत उनके कार्यालय प्रभारियों से दो दिन के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है। मालूम हो कि यह स्थिति तब है, जब मुख्यमंत्री ने डीएम, एसपी सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को अपने दफ्तरों में सुबह ठीक नौ बजे बैठ जाने का निर्देश दिया है। ताकि आमजन की फरियाद सुनी जा सके। अपने इस निर्देश का मुख्यमंत्री ने कड़ाई से पालन करने को कहा है।

यह भी पढ़ें–डीएम का फरमान, विधायक का अड़ंगा

संबंधित ख़बरें...