स्टाफ नर्स से जवाब तलब, स्वीपर निलंबित, मामला जिला अस्पताल का

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। सरकार लाख दावा करे, लेकिन सरकारी अस्पतालों की दुर्व्यवस्था सुधरने वाली नहीं है। इस मुद्दे को लेकर छात्र नेताओं को शुक्रवार की रात जिला अस्पताल में धऱने पर बैठना पड़ा। सुबह भाजयुमो के पूर्व प्रदेश मंत्री योगेश सिंह के हस्तक्षेप पर सीएमओ जीसी मौर्य को सीएमएस संग मौके पर पहुंचना पड़ा और फिर उन्होंने घटनाक्रम के लिए दोषी ड्यूटी पर तैनात स्टाफ नर्स बिंदू देवी को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के साथ ही जवाब तलब और स्वीपर पार्वती देवी को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने की कार्रवाई की। तब धरना खत्म हुआ।

महिला वार्ड में प्रिया सिंह पत्नी दीपक सिंह को भर्ती कराया गया था। उनके साथ रहे अभिभावकों ने बेड की गंदी चादर बदलने और वार्ड में ताला जड़े शौचालय को खोलने का आग्रह किया, लेकिन उनकी किसी ने नहीं सुनी। बार-बार आग्रह के बाद स्वीपर पार्वती ने बेहिचक सुविधा शुल्क की मांग कर दी। उसी बीच दीपक सिंह के पीजी कॉलेज के छात्र नेता साथी पहुंच गए। वह भी प्रयास किए, लेकिन स्टाफ नर्स तथा स्वीपर पर कोई असर नहीं पड़ा। छात्र नेताओं के मुताबिक उन्होंने फोन पर भाजपा के वरिष्ठ नेता और गाजीपुर नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल को इसकी जानकारी दी। उधर श्री अग्रवाल ने उनकी पूरी बात सुनने के बाद कहा कि अस्पताल के डॉक्टर खुद उनकी नहीं सुनते हैं, लिहाजा वह लौट जाएं। भाजपा के वरिष्ठ नेता का निराशजनक जवाब सुन छात्र नेता खुद फैसला लिए और धरने पर बैठ गए।

सुबह छात्र नेताओं ने इसकी जानकारी भाजयुमो के पूर्व प्रदेश मंत्री योगेश सिंह को दी। वह मौके पर पहुंचे और सीएमओ, सीएमएस से फोन पर बात किए। उसके बाद मामले की नाजुकता समझ दोनों अधिकारी मौके पर पहुंचे। उसके बाद पूरा घटनाक्रम सुने। तब वह माने कि इसके लिए ड्यूटी पर तैनात रही स्टाफ नर्स और स्वीपर दोषी हैं। धरना में बैठने वालों में विक्रम प्रताप सिंह छोटू, शिवम सिंह, अभिषेक सिंह, रोहित राय, कमलेश चौधरी आदि थे। सीएमओ, सीएमएस से वार्ता के वक्त अखिल भारतीय छात्र महासभा की युवा इकाई के अध्यक्ष राजकुमार सिंह, सिद्धांत सिंह करन, शशांक उपाध्याय, ब्रजेश सिंह शेरू, पूर्णेंदू पति पांडेय, आकाश सिंह, अनुराग सिंह, राहुल सिंह, विशाल सिंह, चंदन देवा, सौरभ कुमार, आशुतोष यादव, राज यादव आदि छात्र नेता भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें–योगीजी अरुण सिंह का बेटा आपके साथ

संबंधित ख़बरें...