अरुण सिंह पर लदे राजनीतिक मुकदमे वापस लेगी योगी सरकार

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। जिला सहकारी बैंक के पूर्व चेयरमैन अरुण सिंह के खिलाफ दर्ज राजनीतिक मुकदमे प्रदेश की योगी सरकार वापस लेगी। खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अरुण सिंह के बेटे राज ठाकुर को यह आश्वासन दिया। राज ठाकुर रविवार को लखनऊ पहुंचे थे। देर शाम करीब साढ़े छह बजे मुख्यमंत्री ने लोकभवन में उन्हें मिलने का समय दिया था। बकौल राज ठाकुर, मैं मुख्यमंत्री से उनके पूर्व के बयान का जिक्र करते हुए आग्रह किया कि मेरे पिता के खिलाफ भी गाजीपुर के अलग-अलग थानों में कुल छह राजनीतिक मामले दर्ज हैं। वह तब के हैं जब मेरे पिता भाजपा में थे। मेरे पिता के अलावा दूसरे भाजपा कार्यकर्ता भी कई राजनीतिक मुकदमे झेल रहे हैं। मुख्यमंत्री ने भरोसा दिया कि ऐसे राजनीतिक मुकदमे उनकी सरकार वापस लेगी।

राज ठाकुर के मुताबिक मुख्यमंत्री अरुण सिंह का हालचाल जानने में रुचि लिये। साथ ही राज ठाकुर को भाजपा को मजबूत करने के लिए आशीर्वाद भी दिए। राज ठाकुर ने गाजीपुर में खुद की ओर से संचारी रोगों के रोकथाम और पौधरोपण को लेकर चलाए जा रहे अभियान से भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया। इसके लिए मुख्यमंत्री ने उन्हें प्रोत्साहित किया। राज ठाकुर ने हाल ही में विभिन्न हादसों में मृत गाजीपुर सदर विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में बिंद समाज के लोगों के परिवार को आर्थिक मदद का मुख्यमंत्री से लिखित आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने इसके लिए भी राज ठाकुर को आश्वस्त किया।

राज ठाकुर के लिए मुख्यमंत्री की ओर से वक्त मिलने से यह तो लगभग साफ हो गया है कि अरुण सिंह को लेकर गाजीपुर में भाजपा का एक खेमा भले कुछ और सोचता हो, लेकिन मुख्यमंत्री के दिल में अरुण सिंह के लिए जगह है। मालूम हो कि एक हत्या के मामले में अरुण सिंह इन दिनों नैनी जेल में निरुद्ध हैं। राज ठाकुर ने मुख्यमंत्री को बताया कि किस तरह तत्कालीन सपा सरकार गहरी साजिश रच कर उनके पिता को उस मामले में नाहक फंसाई थी।

यह भी पढ़ें–सपाः चाचा ‘खड्गहस्त’, भतीजा ‘शरणागत’

संबंधित ख़बरें...