शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का धरना-प्रदर्शन, उग्र आंदोलन की चेतावनी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षणेत्तर कर्मचारियों ने विकास भवन स्थित डीआईओएस कार्यलय के समक्ष बुधवार को धरना-प्रदर्शन किया। अंत में 11 सूत्री मांग पत्र भी सौंपे। साथ ही चेताए कि उनकी मांगें पूरी नहीं हुईं तो उनका आंदोलन और तेज होगा। धऱना-प्रदर्शन का आह्वान माध्यमिक शिक्षणेत्तर कर्मचारी संघ ने किया था।

इस मौके पर प्रदर्शनकारियों का कहना था कि योग्यताधारी शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को शिक्षक पदों पर पदोन्नति का प्रावधान होना चाहिए। शासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय के शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को राजकीय माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की भांति चिकित्सा सुविधा प्रदान करने, सेवानिवृत्त के समय अवकाश नकदीकरण प्रदान करने की व्यवस्था करने, लिपिकीय संवर्ग का त्रिस्तरीय पुर्नगठन, पुरानी पेंशन योजना बहाल करने, लिपिक एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती पर रोक हटाने, अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को प्रबंध समिति एवं विद्यालय स्तर पर समस्त समितियों में भागीदारी देने, पदोन्नति में 22बी का लाभ, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की पदोन्नति में सीसीसी की अनिवार्यता समाप्त करने, मृतक आश्रितों की नियुक्तियां निर्धारित अवधि में सुनिश्चित की जाए।

धरना-प्रदर्शन में प्रदेश उपाध्यक्ष जावेद अहमद सिद्दीकी, अभय तिवारी, रामवृक्ष प्रसाद, अखिलेंद्र राय, यशवंत सिंह, प्रशांत सिंह, विजय बहादुर राय, विनोद कुमार पांडेय आदि थे। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष नरेंद्र कुमार सिंह व संचालन अरविद कुमार सिंह यादव ने किया।

यह भी पढ़ें–मनोज सिन्हा का बदला दिल्ली का पता