पूरे सैनिक सम्मान के साथ रसूलन बीबी सुपुर्द-ए-खाक

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

दुल्लहपुर। परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद की पत्नी रसूलन बीबी शनिवार की दोपहर पूरे सैनिक सम्मान के साथ पैतृक गांव धामूपुर में सुपुर्द-ए-खाक कर दी गईं। सैन्य, प्रशासनिक, पुलिस अधिकारियों सहित राजनीतिक और समाजसेवियों सहित हजारों लोग उनकी अंतिम विदाई का हिस्सा बने। उसके पहले उनकी अंतिम यात्रा दुल्लहपुर स्थित आवास से सुबह साढ़े 11 बजे शुरू हुआ। पार्थिव शरीर फूल-माला और तिरंगे से सजे पिकअप में रखा था। अंतिम यात्रा शुरू होने से पहले एनसीसी के मलिकपुरा और भुड़कुड़ा के कैडट्स ने सलामी दी। यात्रा में चार और दो पहिया सहित सैकड़ों वाहन चल रहे थे। कई के हाथों में तिरंगे थे। दुल्लहपुर तिराहे पर रुकी यात्रा को एनसीसी कैडटों ने सलामी दी। फिर 12.20 बजे यात्रा जलालाबाद स्थित मां शारदा पब्लिक चिल्ड्रन स्कूल के सामने पहुंची। जहां छात्र-छात्राओ ने पुष्पांजलि अर्पित की। आगे बढ़ने पर दोपहर साढ़े 12 बजे जलालाबाद शाहिद चौक पर अब्दुल हमीद में प्रतिमा का सामने गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। उसके बाद अमारी होते हुए यात्रा झोटारी में रामस्नेही दास खटिया बाबा इंटर कॉलेज में पुष्पाजंलि अर्पित की गई।

दोपहर एक बजे यात्रा धामूपुर स्थित पैतृक आवास पर पहुंची। वहां ग्रामीणों सहित परिवारीजनों ने नम आंखों से श्रद्धांजलि अर्पित की। डेढ़ बजे गांव के ही अब्दुल हमीद पार्क के स्थाई मंच पर पार्थिव शरीर रखा गया। डीएम के बालाजी, एसपी डॉ.अरविंद चतुर्वेदी ने पुष्प चक्र अर्पित किया। राजनीतिक दलों के लोगों ने भी पुष्पांजलि अर्पित की। उनमें भाजपा विधायक सुनीता सिंह, जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह, मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा, प्रदेश कांग्रेस के प्रतिनिधि के रूप में पूर्व विधायक अजय राय, जिलाध्यक्ष डॉ.मारकंडेय सिंह, सपा जिलाध्यक्ष डॉ.नन्हकू यादव, वरिष्ठ नेता लालजी यादव, आमिर अली, जैकिशुन साहू, गोपाल यादव आदि प्रमुख थे। उसी क्रम में इलाहाबाद से आए सेना के ब्रिगेडियर आरपी सिंह सहित सैन्य अधिकारियों ने भी पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र चढ़ाया। दोपहर 1.50 बजे जनाजे का नमाज अदा की गई। उसके बाद रसूलन बीबी को खानदान के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। इस मौके पर सेना की ओर से ब्रिगेडियर आरपी सिंह ने रसूलन बीबी के बड़े बेटे जैनुल हसन को एक लाख का चेक भेंट किया।

मालूम हो कि रसूलन बीबी(96) का शुक्रवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे दुल्लहपुर आवास पर निधन हो गया था। वह इधर काफी कमजोर हो गई थीं। उनकी तबीयत भी कुछ नासाज चल रही थी। इंतकाल की खबर मिलते ही उनके दुल्लहपुर आवास पर लोग शोक जताने में पहुंचने लगे थे। रात में पार्टी विधायक डॉ.वीरेंद्र यादव को लेकर सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल भी पहुंचे थे। साथ ही देश की कई अन्य बड़ी शख्सियतों ने भी फोन कर शोक संवेदना जताई थी। रसूलन बीबी के पति वीर अब्दुल हमीद भारतीय फौज के चार ग्रेनेडियर के जवान थे। पाकिस्तान संग जंग में वह खेमकरण सेक्टर में तैनात थे। दस सितंबर 1965 में उन्होंने पाकिस्तान के अजय समझे जाने वाले अमेरिका में बने पैटन टैंकों को अपनी गन माउंटेड जीप से नष्ट कर पाकिस्तान के भारत फतह के मंसूबे को ध्वस्त कर दिया था। हालांकि उन्हें इसकी कीमत अपनी शहादत देकर चुकानी पड़ी थी। उस जंग के खात्मे के ऐलान से पहले ही मरणोपरांत वीर अब्दुल हमीद को 16 सितंबर 1965 को भारत के सर्वोच्च सेना सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया। उस महान योद्धा की पत्नी रसूलन बीबी के इंतकाल से हर कोई गमजदा है। वह कई समाजसेवी संस्थाओं से भी जुड़ी थीं।

यह भी पढ़ें–मौज मस्ती में डूबे थे यह रईसजादे कि…