पहले वह खुद जालसाजी का शिकार बना फिर दूसरों को बनाने लगा शिकार

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। फौज में नौकरी दिलाने के नाम पर लगभग 80 लाख रुपये ऐंठने वाले जालसाज युवक को भुक्‍तभोगियों ने रविवार की शाम पकड़कर शहर कोतवाली पुलिस को सौंप दिया। युवक गणेश उपाध्याय नोनहरा थाना क्षेत्र के रसूलपुर गांव का रहने वाला बताया गया है। भुक्तभोगियों के मुताबिक फौज में नौकरी लगवाने के नाम पर हर किसी से आठ से दस लाख रुपये वसूला था। उनमें कुछ घर का जेवर बेच कर तो ब्याज पर कर्ज लेकर उसे रुपये दिए थे। बावजूद लंबे इंतजार के बाद भी जब उनका काम नहीं हुआ तो वह लोग उस पर रुपये लौटाने का दबाव बनाना शुरू किए। तब वह झूठे आश्वासन देता रहा। कई को बड़े शहरों में नाहक बुलवाया। आखिर में उन्हें यह समझ आने लगा कि वह उनके साथ जालसाजी किया है, लेकिन तब तक वह भूमिगत हो गया। अभ्यर्थी उसकी टोह में लग गए और वह पकड़ा गया।

इस बार भी गणेश उन्हें झांसा देना चाहा, लेकिन उसकी एक नहीं सुनी गई। उसे पकड़ कर शहर कोतवाली लाया गया। पुलिस की पूछताछ में उसने जो अपनी कहानी बताई वह भी कम रोचक नहीं रही। बताया कि इन्हीं अभ्यर्थियों की तरह फौजी बनने का ख्वाब देखा था। उसी क्रम में उसकी मुलाकात एक युवक से हुई। फौज में नौकरी दिलाने के नाम पर वह उससे आठ लाख रुपये ऐंठ लिया था। अपने रुपये वापस लेने के लिए वह उसके पास बहुत दौड़ा, लेकिन निराशा ही हाथ लगी। उसके बाद वह ठीक उसी तरह दूसरों को ठगना शुरू किया।

यह भी पढ़ें–…जब जिला अस्पताल में मची अफरा-तफरी

संबंधित ख़बरें...