सार्वजनिक जीवन में गरिमा, साहस और कर्तव्यनिष्ठा की प्रतिमूर्ति थीं सुषमा स्वराजः मनोज सिन्हा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से गाजीपुर के भी भाजपाजन काफी व्यथित हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने ट्विट कर कहा है कि पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन से उनका मन अत्यंत दुखी है। सुषमा स्वराज सार्वजनिक जीवन में गरिमा, साहस और कर्तव्यनिष्ठा की प्रतिमूर्ति थीं। उनका निधन भाजपा व देश की राजनीति के लिए अपूर्णीय क्षति है। श्री सिन्हा ने कहा कि वह ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि वह सुषमा स्वराज की पुण्य आत्मा को शांति प्रदान करें और उनके परिवारीजनों को दुःख सहने की शक्ति दें।

उधर बुधवार को छावनी लाइन स्थित पार्टी कार्यालय में शोकसभा हुई। सुषमा स्वराज को श्रद्धाजंलि अर्पित करने के साथ उनके व्यक्तित्व, कृतित्व पर प्रकाश डाला गया। जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने कहा कि सुषमा स्वराज की देश भक्ति उनके अंतिम ट्विट में भी दिखी। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को खत्म करने के बिल को लोकसभा में पास होने के तत्काल बाद उन्होंने अपने निधन से कुछ ही देर पहले ट्विट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। सुषमा स्वराज के विदेश मंत्रित्व काल में भारत की विदेश नीति और सुदृढ़ व मजबूत हुई। पार्टी की क्षेत्रीय मंत्री सरोज कुशवाहा ने कहा कि सुषमा स्वराज का इस तरह सहसा जाना देश व पार्टी दोनों की अपूर्णीय क्षति है। इस अवसर पर सुषमा स्वराज की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रख कर ईश्वर से प्रार्थना की गई। साथ ही उनके चित्र के समक्ष धूप प्रज्ज्वलन और पुष्पांजलि अर्पित की गई। शोकसभा में गाजीपुरनगर पालिका के पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल, युवा मोर्चा के काशी क्षेत्र अध्यक्ष राजेश राजभर, प्रवीण सिंह, अच्छे लाल गुप्त, जिला पंचायत सदस्य हरेंद्र यादव, अखिलेश सिंह, रासबिहारी राय, जिला मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा, मनोज बिंद, सुरेश बिंद, रामेश्वर तिवारी, गोपाल राय, दुर्गेश सिंह, मानवेंद्र सिंह, रुद्र प्रताप सिंह, अभिमन्यु सिंह, अनिल सिंह, धनेश्वर बिंद, अनुज अकेला आदि थे। संचालन जिला महामंत्री रामनरेश कुशवाहा ने किया।

इसी तरह जखनियां में भी पार्टी कार्यकर्ताओं ने शोकसभा की। जिला मंत्री विपिन सिंह ने कहा कि सुषमा स्वराज ने पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए हमेशा मार्गदर्शन का कार्य किया। उनकी छवि साफ-सुथरी और सशक्त नेता की थी। पार्टी ने उनके रूप में अपना बहुमूल्य रत्न खो दिया। भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष प्रमोद वर्मा ने कहा सुषमा स्वराज बेहद मृदुभाषी और मर्मस्पर्शी थी। उनके जिह्वा पर मां सरस्वती का वास होता था। वह ओजस्वी वक्ता थीं। जब सदन में खड़ा होकर बोलती थीं, तो पूरा सदन उनकी वाणी को शांतिपूर्वक होकर सुनता था। जब उन्होंने विदेश मंत्री का कार्यभार संभाला तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बखूबी कूटनीति का परिचय दिया। उन्होंने खाड़ी देशों में फंसे हुए भारतीय बंधकों को छुड़ाया और दुनिया को संदेश भी दिया भारत अब वह नहीं रह गया है, जिस पर कोई देश आंख दिखा सके। वह विपक्षियों के लिए शूल थीं तो अपनों के लिए फूल थीं। अंत में दो मिनट का मौन रख कर सुषमा स्वराज की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। इस मौके पर प्रमुख रूप से भाजपा मंडल अध्यक्ष उमाशंकर यादव, महामंत्री धर्मवीर भारद्वाज, जिला पंचायत सदस्य अवधेश यति, प्रशांत सिंह, ओम प्रकाश दूबे, अरविंद चौहान, पारस पांडेय, सुदामा यादव, सूरज खरवार, दिनेश यादव, शिवानंद चौहान, सतीश सिंह, अरविंद कुशवाहा आदि थे।

यह भी पढ़ें–उफ! तीन की ऐसे आई मौत

संबंधित ख़बरें...