शहर कोतवाली क्षेत्र में बन रही शऱाब, भाजपा नेता ने पहुंचाई पुलिस कप्तान तक बात

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। एक ओर पुलिस सार्वजनिक स्थानों शऱाब के सेवन करने वालों पर डंडा चला रही है और दूसरी ओर नाजायज तरीके से शराब की फैक्ट्री संचालित करने वालों के लिए अपनी आंखें बंद कर ली है। इसका प्रत्यक्ष प्रमाण शहर कोतवाली क्षेत्र का डिलिया भौरहां गांव है। मजे की बात की भाजयुमो के पूर्व प्रदेश मंत्री योगेश सिंह ने खुद उस गांव का जायजा लेने और शराब फैक्ट्री संचालकों की कारस्तानियां ग्रामीणों की जुबानी सुनने के बाद मौके से ही पुलिस कप्तान डॉ.अरविंद चतुर्वेदी को फोन से अवगत भी कराया, लेकिन उसके चार दिन बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। बकौल योगेश सिंह, पुलिस कप्तान ने फोन पर चर्चा के वक्त मुझसे इस मामले में तत्काल कार्रवाई की बात कही। उसके एक दिन बाद शहर कोतवाल ने मुझे फोन किया। पुलिस कप्तान की मुझसे हुई बात का हवाला देते हुए शहर कोतवाल ने पूरा ब्यौरा लिया। उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ।

डिलिया-भौरहां गांव के लोगों का कहना है कि शराब के अवैध कारोबार में एक जाति विशेष के लोग लिप्त हैं। उनमें उस जाति की महिलाएं, बच्चे तक शामिल हैं। इनका मुख्य कर्ताधर्ता एक कुख्यात शराब माफिया है। शराब के कारोबार के चलते अपराधी प्रवृत्ति के लोगों और संदिग्धों का गांव में प्रायः जमावड़ा लगा रहता है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर इस पर अंकुश नहीं लगा तो किसी दिन कोई बड़ी अनहोनी हो सकती है। ग्रामीणों की मानी जाए तो इस मामले में बीट के सिपाहियों सहित आबकारी विभाग के कर्मचारियों की भूमिका संदिग्ध है।

यह भी पढ़ें–अफजाल क्या बोले कश्मीर पर