घोसी विधानसभा सीट के उपचुनाव में मुख्तार अंसारी के बेटे के खिलाफ मुकाबिल होगी भासपा!

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। मऊ की घोसी विधानसभा सीट पर उपचुनाव में कब्जा जमाने का बसपा का ख्वाब सहजता से पूरा नहीं होगा। संभव हो कि सपा से गठबंधन के तहत भासपा इस सीट पर मुकाबिल होगी। भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने रविवार को वहां बड़ी सभा कर राजनीतिक हलके में यह संकेत देने की पूरी कोशिश की।

मालूम हो कि साल 2017 के आम चुनाव में घोसी सीट भाजपा के खाते में गई थी। उधर बसपा मऊ सदर सीट के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी को मैदान में उतारी थी। भाजपा की खुद की लहर थी और भासपा का साथ था। बावजूद अब्बास अंसारी ने भाजपा के कद्दावर नेता फागु चौहान को कड़ी टक्कर दी थी और करीब आठ हजार वोट से पिछड़ गए थे। फागु चौहान बिहार के राज्यपाल बने तो उन्हें विधायक का पद छोड़ना पड़ा। जाहिर है कि घोसी सीट के लिए उप चुनाव होगा और यह भी लगभग तय माना जा रहा है कि उसमें बसपा एक बार फिर अब्बास अंसारी पर दाव लगाएगी, जबकि भाजपा इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखने की हर हिकमत लगाएगी। ओम प्रकाश राजभर की घोसी की सभा में जुटी भीड़ से यह लगभग साफ हो गया कि वहां उनकी जनताकत में कोई कमी नहीं आई है और सपा से गठबंधन हो गया तो घोसी सीट के उप चुनाव के नतीजे में वह उलटफेर करने की हैसियत में होंगे।

भासपा के राष्ट्रीय महासचिव अरविंद राजभर ने कहा कि घोसी की रैली भाजपा को जवाब है। भाजपा यह अफवाह फैला रही है कि भासपा का आधार अब उससे दूर हो चुका है और उसके साथ हो लिया है। एक सवाल पर उन्होंने बताया कि भासपा का सपा से गठबंधन हो सकता है। वैसे इस मसले पर 27 अगस्त को लखनऊ में पार्टी की प्रस्तावित बैठक में चर्चा होगी। अरविंद राजभर के मुताबिक भासपा फिलहाल प्रदेश के उन सभी विधानसभा क्षेत्र में संगठन को मजबूत करने के साथ ही सभा कर रही है, जहां उप चुनाव होने हैं और जहां पार्टी का अपना आधार है।

यह भी पढें–…और पूर्व सांसद बोले

संबंधित ख़बरें...