नीरज शेखर के स्वागत में पहुंचे सुभासपा के प्रदेश उपाध्यक्ष

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को क्या बड़ा झटका लगेगा। राजनीतिक हलके में बुधवार को यह सवाल तब उठा, जब दोबारा राज्यसभा सदस्य बनने के बाद पहली बार नीरज शेखऱ गाजीपुर के रास्ते अपने गृह जिला बलिया के लिए निकले। गाजीपुर की सीमा पर नीरज शेखर के स्वागत में उमड़े भाजपाइयों में सुभासपा के प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रजेश सिंह काकन न सिर्फ दिखे, बल्कि वह पूरे उत्साह और आत्मीय भाव से नीरज शेखर का माल्यार्पण किए। नीरज शेखर भी उसी भाव में उनको रिस्पांस दिए। उनके साथ फोटो सेशन के लिए वक्त भी दिए।

हालांकि इस बाबत गाजीपुर आजकल डॉट कॉम ने उनसे चर्चा की। वह कहे कि उनका बहुत पहले से नीरज शेखऱ से निजी तालुक्कात है और उसी शिष्टाचारवश उन्होंने उनके स्वागत में जाने का फैसला किया। किसी नेता का निजी संबंधों में स्वागत को दलीय सीमा में बांधा जाना गलत है। इसे मात्र एक शिष्टाचार की दृष्टि से ही देखा जाना चाहिए।

मालूम हो कि श्री काकन सुभासपा के अगड़े नेताओं में शामिल बड़े चेहरों में शुमार किए जाते हैं। पार्टी से अगड़ों को जोड़ने में उनकी अहम भूमिका मानी जाती है। शायद इसी राजनीतिक ताकत को देखते हुए सुभासपा ने उनको प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है। पार्टी सूत्रों की मानी जाए तो लोकसभा चुनाव के वक्त भाजपा से नाता तोड़ने के अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के एक तरफा फैसले से इत्तेफाक न रखने वाले पार्टी नेताओं में श्री काकन भी थे, लेकिन वह उस मसले पर चुप रहने में ही अपनी भलाई समझे थे। बहरहाल अगर श्री काकन दूर होते हैं तो निश्चित रूप से सुभासपा के लिए वह बड़ा झटका होगा। मतलब सुभासपा अपना एक बड़ा अगड़ा चेहरा खो देगी।

यह भी पढ़ें–बहुत खूब! नीरज शेखर का इस अंदाज में स्वागत

संबंधित ख़बरें...