हिम्मत है तो भाजपा सरकार मुझे गिरफ्तार करके देख लेः ओमप्रकाश राजभर

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बाराचवर(यशवंत सिंह)। खुद के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने से सुभासपा अध्यक्ष और पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर बेहद गुस्से में हैं। उन्होंने प्रदेश की योगी सरकार को ललकारते हुए कहा कि अगर हिम्मत है तो उन्हें गिरफ्तार करके दिखा जाए। वह अकेले नहीं बल्कि उनके साथ एक लाख लोग जेल जाने के लिए खड़े हो जाएंगे। तब जेलों में जगह नहीं रह जाएगी और उसका खामियाजा अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा को भुगतना पड़ेगा। बुधवार को हुसेनाबाद गांव के पार्टी कार्यकर्ता रामनगीना राजभर के तेरहवीं पुण्य तिथि पर आयोजित श्रद्धाजंलि समारोह में श्री राजभर बोल रहे थे।

ओमप्रकाश राजभर ने दूसरे गैर भाजपा दलों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जेल जाने के डर से उनके नेता मोदी-शाह और योगी के आगे नतमस्तक हो गए हैं। वह अकेले शख्स हैं जो भाजपा सरकार के जुल्म के खिलाफ हर मोर्चे पर लड़ रहे हैं। सुभासपा अध्यक्ष ने कहा कि वह भाजपा सरकार में रहते हुए भी उसकी ज्यादतियों पर चुप नहीं बैठे थे। उसका परिणाम भी भुगतना पड़ा। वह गरीबों, पिछड़ों के सवाल पर मंत्री पद तक ठुकरा दिए। वैसे उनको बड़े-बड़े प्रलोभन दिए गए, लेकिन वह नहीं टूटे। अड़े रहे कि गरीबों, पिछड़ों के लिए उनसे किए वादे भाजपा सरकार पूरा करे। बसपा मुखिया मायावती को भी सुभासपा अध्यक्ष नहीं छोड़े। कहे कि आज मायावती मोदी-शाह के इशारे पर काम कर रही हैं। ताकि उनका गड़बड़ घोटाला सरकार उजागर न करे। उनका कहना था कि भाजपा चुनावों गरीबों, अति पिछड़ों को भरमा कर सिर्फ वोट लेती है। सत्ता में आने के बाद उनसे किए चुनावी वादों को भुला जाती है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

समारोह में पार्टी विधायक त्रिवेणी राम भी बोले। दिवंगत कार्यकर्ता रामनगिना राजभर को याद करते हुए कहे कि वह पार्टी के वफादार सिपाही थे। उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। उन्होंने खुद को लेकर हो रही चर्चा पर कहा कि लोग कहते हैं कि वह बसपा से भासपा मे आए हैं, लेकिन यह गलत है। वह कभी बसपा में नहीं रहे। हां। वह सांसद अफजाल अंसारी के साथ जरूर रहे हैं। समारोह में सुदामा दादा, शालिक यादव, सुनील सिंह, पशुराम राजभर, मुरली सिंह, शमशेर, अमरनाथ पासवान, छोटेलाल राजभर हृदयनारायण राजभर, रामाश्रय राजभर, प्रभाकर जायसवाल, अंबिका राजभर, सुरेश राजभर आदि भी बोले। अध्यक्षता पार्टी की जहूराबाद विधानसभा क्षेत्र इकाई अध्यक्ष डॉ. जयनाथ राजभर तथा संचालन जिलाध्यक्ष मेजर रामजी राजभर ने किया। अंत मे दो मिनट का मौन रहकर कार्यकर्ता रामनगीना राजभर की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। मालूम हो कि ओमप्रकाश राजभर ने बीते 25 अगस्त को मऊ के घोसी विधानसभा क्षेत्र में अपनी रैली में भाजपा नेताओं पर अभद्र टिप्पणी की थी। उस मामले में मऊ के कोपागंज थाने में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

यह भी पढ़ें–…पर भासपा नेता ने यह क्या किया

संबंधित ख़बरें...