विभागीय कार्यों के प्रति लापरवाह और उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने वाले हैं बीएसए श्रवण कुमारः डीएम

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। ‘‘बीएसए श्रवण कुमार गुप्त एक लापरवाह और उच्चाधिकारयों के आदेशों की अवहेलना करने वाले अधिकारी हैं’’। यह वाक्य किसी शिक्षक नेता का नहीं बल्कि डीएम के बालाजी का है। गाजीपुर आजकल डॉट कॉम इस वाक्य को ऐन शिक्षक दिवस पर गुरुवार को दोहरा रहा है। वह भी इस लिए कि इस मौके पर बीएसए साहब कहीं न कहीं बच्चों को सीख देंगे कि वह अपने शिक्षकों की मर्यादा और सम्मान का ध्यान रखें और अनुशासन में रहें।  शिक्षक भी अपने लिए बच्चों से ऐसी ही अपेक्षा करेंगे, लेकिन शिक्षक यह भूल जाएंगे कि उनके बीएसए साहब इसके ठीक उलट हैं। न उन्हें खुद अपने पद की मर्यादा की चिंता है न अनुशासन का ही ध्यान है।

डीएम बीएसए के इस कृत्य पर किस कदर खफा हैं। इसका अंदाजा बीते 23 अगस्त की तारीख में बीएसए को भेजी गई उनकी चिट्ठी से लगाया जा सकता है। डीएम उस चिट्ठी में बीएसए के कृत्य की भर्त्सना करते हुए अंतिम पैरे में लिखते हैं-श्रवण कुमार गुप्त बीएसए गाजीपुर एक लापरवाह एवं उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने वाले अधिकारी हैं और उनकी सेवा पुस्तिका में प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाती है। साथ ही उनको भविष्य के लिए सचेत किया जाता है।

डीएम की यह नाराजगी जनशिकायतों कीी निस्तारण कार्यवाही की समीक्षा को लेकर है। मालूम हो कि शासन की मंशा के अनुरूप जनशिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाना चाहिए। इनके लिए बार-बार अधिकारियों की बैठक होती है। उन्हें हिदायत दी जाती है। फिर फोन के जरिये भी अधिकारियों को इस मामले में तत्पर रहने को कहा जाता है। बावजूद डीएम की ओर से 22 अगस्त तक की जनशिकायतों के निस्तारण की प्रगति समीक्षा में डीएम ने पाया कि बीएसए के स्तर से मुख्यमंत्री के हेल्पलाईन पर पांच डिफाल्टर और छह संदर्भ लंबित थे। इसी तरह ऑनलाईन संदर्भ में तीन डिफाल्टर प्रदर्शित हो रहे थे। इनके अलावा बीएसए के अधीन एबीएसए स्तर पर मुख्यमंत्री हेल्पलाईन पर 13 डिफाल्टर, छह लंबित और ऑनलाईन संदर्भ में 22 डिफाल्टर तथा सात प्रकरण लंबित थे। डीएम ने माना कि बीएसए इस मामले में कतई संवेदनशील नहीं हैं। यहां तक कि मुख्यमंत्री ऑनलाईन पर अंकित जनशिकायतों की भी उन्हें फिक्र नहीं है।

यह भी पढ़ें–ऐसा! अफीम कारखाना की कटी बिजली

संबंधित ख़बरें...