शिक्षक एमएलसी चुनाव में पहली बार उतरने की भाजपा की तैयारी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। देश भर में अपने शानदार चुनावी प्रदर्शन से उत्साहित भाजपा की निगाह अब विधान परिषद के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र पर भी पड़ गई है। इसको लेकर पार्टी की तैयारी भी शुरू हो गई है। इस सिलसिले में बुधवार को छावनी स्थित कार्यालय पर औपचारिक बैठक भी हुई। बैठक में पार्टी के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष रामप्रकाश दूबे ने कहा कि विधान परिषद के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लिए पार्टी बड़ी भूमिका के साथ भाग लेगी। उन्होंने कहा कि पार्टी शुरू से समाज के सभी क्षेत्र के लोगों को एक साथ लेकर चलने का काम की है।

क्षेत्रीय उपाध्यक्ष कृष्ण बिहारी राय ने कहा कि शिक्षक समाज का पथ प्रदर्शक व राष्ट्र निर्माता रहा है और इसकी राष्ट्र निर्माण और लोकतांत्रिक राजनीति में अग्रणी व समर्पित रूप से निर्णायक भूमिका रही है। बैठक में गाजीपुर के कुल 18 शिक्षक मतदान केंद्रों पर पार्टी का प्रतिनिधि बनाकर मतदाता सूची में शिक्षक मतदाताओं के नाम दर्ज कराने पर विस्तार से चर्चा हुई। पार्टी जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने बताया कि कार्यकर्ता विद्यालयों में पहुंच कर शिक्षकों को संगठित कर मतदाता बनने लिए प्रेरित करेंगे। बैठक में संकठा मिश्र, गिरजा शंकर पांडेय, सत्यवान सिंह, राजेश मिश्र,पियुष ओझा, पवनसुत गुप्त, विजय नारायण मिश्र, शशांक राय, सतीश राय आदि उपस्थित थे। मालूम हो कि यह पहला मौका है, जब शिक्षक एमएलसी के चुनाव में किसी राजनीतिक दल ने उतरने की तैयारी शुरू की है। अब तक शिक्षक एमएलसी चुनाव में शिक्षक संगठन खासकर माध्यमिक शिक्षकों के संगठन ही आपस में जोर आजमाइश करते रहे हैं। वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र में कभी माध्यमिक शिक्षक संघ (शर्मा गुट) का ही दबदबा रहा है, लेकिन बीते दो चुनावों सेे शर्मा गुट को मुंहकी खानी पड़ रही है। चेतनारायण सिंह शिक्षक एमएलसी चुने जाते आ रहे हैं। बल्कि उनकी अगुवाई में माध्यमिक शिक्षकों का एक अलग गुट बन गया है। चेतनारायण सिंह का कार्यकाल अगले साल छह मई तक है। वाराणसी शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में वाराणसी तथा गाजीपुर के अलावा जौनपुर, चंदौली, भदोही, मीरजापुर, सोनभद्र तथा बलिया जिला आता है।

जाहिर है कि जब भाजपा शिक्षक एमएलसी के चुनाव में उतरने की तैयारी शुरू की है तो भाजपा से जुड़े शिक्षक नेताओं के दिल में भी कुछ-कुछ होने लगा है। इस दशा में पार्टी में टिकट के दावेदारों की सूची लंबी होगी तो कोई हैरानी की बात नहीं होगी। वैसे मौजूदा शिक्षक एमएलसी चेतनारायण सिंह की दलीय निकटता पर गौर किया जाए तो वह भाजपा के ही निकट दिखते हैं।  

यह भी पढ़ें–अफजाल बुलाए, बनारस से भागे आए एसई

संबंधित ख़बरें...