अपनी गाड़ी के लिए खास नंबर चाहिए तो जेब और करनी पड़ेगी ढीली

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। अपनी गाड़ियों के खास नंबर की चाहत रखने वालों के लिए यह खबर तीखी लगेगी। खबर है कि खास नंबर के लिए उन्हें अपनी जेब और ढीली करनी पड़ेगी। संभागीय परिवहन विभाग के सूत्रों ने बताया कि नए शासनादेश के तहत दोपहिया और चारपहिया वाहनों की श्रेणी अलग करते हुए पांच से छह गुना तक न्यूनतम पंजीकरण शुल्क बढ़ा है। इन नंबरों के लिए एक से अधिक दावेदारों की मौजूदगी में न्यूनतम दर से नीलामी शुरू होगी। नई व्यवस्था में पंजीकरण नंबरों को चार श्रेणियों में बांटा गया है। महत्वपूर्ण, अति महत्वपूर्ण, आकर्षक और अति आकर्षण।

पहिया के महत्वपूर्ण नंबर की न्यूनतम दर तीन हजार, चार पहिया 15 हजार, अति महत्वपूर्ण नंबर दो पहिया दस हजार, चार पहिया 50 हजार, आकर्षक नंबर दो पहिया पांच हजार, चार पहिया 50 हजार और दो पहिया के लिए अति आकर्षण नंबर की न्यूनतम दर 20 हजार तथा चार पहिया के लिए एक लाख रुपये तय की गई है। पहले की व्यवस्था में आकर्षक, अति आकर्षक नंबरों के लिए तीन से पंद्रह हजार रुपये तक न्यूनतम दर थी। हालांकि नई व्यवस्था में एक सहूलियत यह भी दी गई है कि गाड़ी मालिक चाहेंगे तो अपनी पुरानी गाड़ी के नंबर का इस्तेमाल नई गाड़ी में कर सकते हैं। इसके लिए नंबर पोर्टेबिलिटी की व्यवस्था की गई है। कोई अपनी पुरानी गाड़ी के नंबर पर ही नए वाहन का पंजीयन करा सकता है।

हालांकि यह नंबर पोर्टेबिलिटी उसी वाहन की श्रेणी में होनी चाहिए। मालूम हो कि गाजीपुर प्रदेश के उन जिलों में शामिल है जहां सबसे अधिक खास नंबरों की मांग होती है। गाजीपुर में कई ऐसे नेता हैं अथवा नेता बनने की दौड़ में हैं, जिनकी गाड़ियों के बेड़े में एक नंबर और एक रंग पर जोर दिया जाता है।

यह भी पढ़ें–पुलिस के हाथ ऐसे लगा ईनामी बदमाश