फिर डीएम तक पहुंची बालू माफियाओं की कारस्तानी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। गंगा के जर्जर वीर अब्दुल हमीद पुल पर बालू माफियाओं की मनमानी की शिकायत अब ट्रक मालिकों ने डीएम तक पहुंचाई है। ट्रक एसोसिएशन के लोग शुक्रवार को डीएम से मिले और बताए कि किस तरह बालू माफिया ट्रैक्टर ट्रालियों पर ओवरलोड बालू गंगा पार से भेज रहे हैं और इसमें सुहवल थाना के साथ ही रजागंज पुलिस चौकी के पुलिस कर्मी की कितनी और कैसी भूमिका है। उनका कहना था कि पुल की जर्जर दशा को देख ट्रकों के आवागमन को प्रशासन रोक दिया है, लेकिन बालू माफिया ट्रैक्टर ट्राली पर 400 फीट तक बालू पुल के रास्ते ढुलाई कर रहे हैं। अगर इन पर अंकुश नहीं लगा तो फिर पुल सामान्य यातायात के लायक भी नहीं रह जाएगा। ट्रक मालिकों ने कहा कि उन ट्रैक्टर ट्रालियों को बंद कर दिया जाए और खाली ट्रकों को पुल से बिहार जाने की इजाजत दी जाए। इसके दो लाभ होंगे। एक तो पुल सुरक्षित रहेगा और ट्रक मालिकों को भी अपनी ट्रकों को खाली बिहार भेजने में वक्त और ईंधन बचेगा।

मालूम हो कि गंगा के वीर अब्दुल हमीद पुल पर बालू माफियाओं की मनमानी का मुद्दा भाजपा के युवा नेता योगेश सिंह भी लगातार उठा रहे हैं। इस सिलसिले में वह पहले एसपी और डीएम से मिल चुके हैं। उनकी इस मुहिम में भाजपा के बड़े नेता भी साथ हैं। बावजूद पुल पर ओवरलोडेड ट्रैक्टर ट्रालियों के परिचालन पर अभी तक अंकुश नहीं लग पाया है। वैसे योगेश सिंह का कहना है कि वह इस मुद्दे पर चुप नहीं बैठेंगे। यह गंगा पार आबाद लाखों लोगों की सुविधा का सवाल है। अगर गंगा का यह पुल नहीं बचा तो तय है कि गंगा पार के लोगों का जिला मुख्यालय से सीधा सड़क संपर्क टूट जाएगा। इसका असर उस पार प्रशासनिक कामकाज पर भी पड़ेगा।

यह भी पढ़ें–खरडीहा कांडः पुलिस के हत्थे चढ़ा ग्राम प्रधान!

संबंधित ख़बरें...