बाढ़ की रफ्तार धीमी, खुलेंगे स्कूल

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। गंगा में बढ़ाव की रफ्तार काफी धीमी हो गई है, लेकिन कई नई जगह पर बाढ़ का पानी पहुंच गया है। इसी बीच बेसिक शिक्षा विभाग ने गैर बाढ़ प्रभावित स्कूलों को खोलने का फैसला किया है।

सिंचाई विभाग (बाढ़) के एक्सईएन राजेश शर्मा ने बताया कि गाजीपुर में गंगा में बढ़ाव में ठहराव के बाद फिर बढ़ाव शुरू हो गया है। शुक्रवार की शाम पांच बजे गंगा का पानी प्रति घंटा मांत्र पांच मिलीमीटर की रफ्तार से बढ़ रहा था। जिला मुख्यालय पर जलस्तर 64.27 मीटर रिकार्ड किया गया, लेकिन ऊपर प्रयागराज में गंगा में बढ़ाव की रफ्तार प्रति घंटा दो सेंटीमीटर था। इस दशा में आशंका है कि गाजीपुर में भी गंगा के बढ़ने की रफ्तार में तेजी आ सकती है, लेकिन गनीमत है कि नीचे गंगा का पानी तेजी से सरक रहा है। वजह घाघरा काफी घट गई है। फिर ऊपर यमुना और गंगा में पानी के अतिरिक्त दबाव की स्थिति नहीं है। हालात यही रहे तो गाजीपुर में दो दिन बाद गंगा के घटने का क्रम शुरू हो जाएगा।

बाढ़ के पानी से फसलों की बड़ी क्षति हुई है। खेतों में खड़ी फसल डूब गई हैं। भांवरकोल, रेवतीपुर, भदौरा इलाके में कई जगह हाल में रोपे गए टमाटर, मीर्च के पौधे किसानों को उखाड़ने पड़े हैं। ताकि खेत में बाढ़ का पानी खिसकने के बाद उन्हें दोबारा रोपा जा सके।

इसी बीच बीएसए श्रवण कुमार ने बताया कि गैर बाढ़ प्रभावित इलाकों के कक्षा आठ तक के स्कूल 21 सितंबर से अपने निर्धारित समय से खुलेंगे, जबकि बाढ़ प्रभावित इलाकों के स्कूल बंद रहेंगे, लेकिन वहां के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति अनिर्वाय होगी। ताकि राहत कार्य में उनका सहयोग मिल सके। मालूम हो कि बाढ़ की भयावहता को देखते हुए डीएम के बालाजी के आदेश पर जिले भर के कक्षा आठ तक के स्कूल गुरुवार से दो दिन के लिए बंद कर दिए गए थे।

यह भी पढ़ें–…और योगी बोले

संबंधित ख़बरें...