बाइक लिफ्टर गैंग का फूटा भांडा, चोरी की तीन बाइक सहित एक सदस्य गिरफ्तार

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। बाइक लिफ्टर गैंग का भांडा फूट गया। यह कामयाबी नंदगंज पुलिस और स्वॉट टीम की साझी कार्रवाई में रविवार को तड़के मिली। गैंग का एक सदस्य पकड़ा गया। उसके कब्जे से मय कारतूस सहित चोरी की तीन बाइक बरामद की गई।

पुलिस कप्तान डॉ.अरविंद चतुर्वेदी ने दोपहर अपने ऑफिस में मीडिया के सामने गैंग के पकड़े गए सदस्य रवींद्र मौर्य को पेश किया। रवींद्र सैदपुर कोतवाली के रसूलपुर कोलवर गांव का रहने वाला है। पुलिस कप्तान ने बताया कि एसओ नंदगंज विनीत राय अपनी टीम के साथ सिहोरी ताल पुलिया के पास वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। उसी बीच स्वॉट टीम इंचार्ज धर्मवीर सिंह अपनी टीम के साथ वहां पहुंच गए। तभी तीन बाइक सवार पांच संदिग्ध युवक शादियाबाद की ओर से तेज गति से आते दिखे, लेकिन पुलिस टीम को देख वह अपनी बाइक मोड़ कर वापस भागने लगे। तब पुलिस तत्परता दिखाते हुए उनमें एक को मय बाइक दबोच ली, जबकि अन्य दो बाइक सवार चार युवक हड़बड़ी में गिर पड़े। बावजूद वह दोनों बाइक मौके पर छोड़ कर अंधेरे में लापता हो गए।

मौके पर पकड़ा गया गैंग का सदस्य रवींद्र मौर्य ने पूछताछ में बताया कि गैंग के सदस्य साथ निकलते और सार्वजनिक स्थानों पर मौका देख कर बाइक लेकर चलते बनते थे। फिर बाइकों के कल-पुर्जे निकाल कर एक दूसरे में फिट कर देते थे। नंबर प्लेट निकाल कर फर्जी नंबर वाली प्लेट लगा देते थे। उसके बाद फर्जी कागजात तैयार कर उन्हें बेच देते थे। बाइक की बिक्री के मिले रुपये बराबर-बराबर आपस में बांट लेते थे। उनका कार्यक्षेत्र गाजीपुर सहित वाराणसी महानगर था। बरामद बाइकों में एक वाराणसी के कचहरी और दूसरी सिगरा क्षेत्र से चुराई गई थी।

पुलिस कप्तान ने बताया कि मौके से फरार गैंग के सदस्यों की पहचान कर ली गई है। उनमें वीरु यादव, पीयूष कनौजिया और धर्मेंद्र राजभर सैदपुर कोतवाली के खजुरा के रहने वाला है, जबकि चौथा सुग्गन उर्फ अरुण राजभर सैदपुर कोतवाली के ही पौटा गांव का है।

यह भी पढ़ें–पुलिस के हाथ ऐसे लगे शराब तस्कर

संबंधित ख़बरें...