प्रमुख समाजसेवी शम्मी सिंह का साथियों संग श्रमदान, लंका मैदान की ओर आने वाली सड़क का पाटे गड्ढा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। प्रमुख समाजसेवी एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष विवेक सिंह शम्मी ने शनिवार को फिर खुद को साबित किया कि वह बयानवीर नहीं बल्कि कर्मवीर हैं। सुबह वह साथियों संग फावड़ा, बेलचा, टोकरी और ठेला ट्राली लेकर सड़क पर उतरे और लंका (रामलीला मैदान) की ओर आने वाले हाइवे की सड़क के गड्ढे पाट डाले। जाहिर था कि उन्हें यह एहसास था कि रामलीला देखने वाले श्रद्धालुओं के लिए वह गड्ढे दुश्वारियां पैदा कर रहे हैं।

इस मौके पर वह नगर पालिका, एनएचआई और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को भी आड़े हाथ लेना नहीं भूले। कहे कि एक ओर प्रदेश सरकार सड़कों को गड्ढा मुक्त करने की बात कर रही है। दूसरी ओर संबंधित कार्यदाई संस्थाओं के अधिकारी सड़कों को गड्ढ़ा युक्त रखने पर आमादा हैं। यहां तक कि उन्हें यह भी चिंता नहीं है कि दुर्गा पूजा पंडालों और राम लीला देखने निकले श्रद्धालुजनों को सड़कों के गड्ढे किस कदर जुल्म ढाह रहे हैं। उन्होंने नगरीय क्षेत्र की बदहाल सड़कों का जिक्र किया। बताए कि सिंचाई विभाग चौराहा से लेकर पीरनगर तक की सड़क पिछले ढाई वर्षों से खराब है। उसकी मरम्मत की जरूरत आज तक नहीं समझी गई। कमोवेश यही हाल नवापुरा साई मंदिर, फुल्लनपुर बाईपास, भुतहिया टांड चौराहा से लेकर विकास भवन को जाने वाली सड़क का है। एनएचआई की सड़क महाराजगंज से विशेश्वरगंज तक जर्जर हो गई है। उसके चलते हादसे आम हो गए हैं। नगर पालिका सड़कों के निर्माण में मानक की सरासर अनदेखी कर रही है। उन्होंने चेताया कि अगर विजयादशमी से पहले रामलीला मैदान लंका और दुर्गा पूजा पंडालों की ओर जाने वाली सड़कों को दुरुस्त नहीं किया गया तो वह नागरिकों को लेकर धरना-प्रदर्शन व रास्ताजाम को बाध्य होंगे।

श्री शम्मी के साथ श्रमदान करने वालों में एडवोकेट बृजेश राय, व्यवसायी ओपी यादव, युवा नेता राहुल सिंह, प्रदीप, अनिल कुमार, अंजनी सिंह, किशन बिंद, इन्दीवर वर्मा, मनीष पांडेय आदि प्रमुख थे।

यह भी पढ़ें–ओह! वह लगा ली फांसी

 

संबंधित ख़बरें...