बृजेश सिंह के बाद अब मुख्तार के बेटे पर भी लगी 420 की धारा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। अंडरवर्ल्ड में बाप का खासा टेरर हो। नरसंहार तक में वह आरोपी रहे हों, लेकिन उनके बेटों पर धोखाधड़ी, जालसाजी जैसे आरोप लगें। उनके खिलाफ पहली बार दर्ज आपराधिक मामलों में आईपीसी की धारा 420 भी शामिल रही। तो इसे क्या कहा जाएगा। पीढ़ी का फर्क कि उनके बेटों का शातिर दिमाग। कुछ ऐसा ही इत्तेफाक बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह और उनके जानी दुश्मन बाहुबली एमएलए मुख्तार अंसारी के बेटे के साथ हुआ है।

ताजा मामला मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी का है। उनके खिलाफ बीते 12 अक्टूबर को लखनऊ के महानगर कोतवाली में एक ही शस्त्र लाइसेंस पर धोखाधड़ी से पांच असलहे खरीदने और फर्जीवाड़ा कर आर्म्स लाइसेंस दिल्ली ट्रांसफर कराने का मामला दर्ज हुआ। उसके बाद गुरुवार को लखनऊ पुलिस अब्बास  के दिल्ली  के वसंत कुंज स्थित आवास पर छापेमारी की। जहां छह असलहे और चार हजार से ज्यादा कारतूस बरामद हुए। असलहों की कीमत लाखों में बताई जा रही है। असलहों में इटली, आस्ट्रिया, अमेरिका और स्लोवेनिया के बने असलहे रहे। जाहिर है कि उनके खिलाफ दर्ज मामले में अन्य धाराओं के साथ आईपीसी की धारा 420 भी है।

इसके पहले बाहुबली बृजेश सिंह के बेटे सिद्धार्थ सिंह पर भी जालसाजी, धोखाधड़ी का मामला वाराणसी के कैंट थाने में दर्ज हुआ। यह बात पिछले माह की है। उन पर आरोप है कि उन्होंने वाराणसी शहर के पांडेयपुर इलाके में स्थित वाराणसी विकास प्राधिकरण (वीडीए) के बहुकीमती भूखंड को राजस्व के दस्तावेजों में हेरफेर और जालसाजी कर अन्य छह के साथ मिल कर अपने और उनके नाम करा लिया। जाहिर है कि इस मामले में भी प्रशासन काफी सख्त है।

बहरहाल इन दोनों बाहुबलियों के बेटों के खिलाफ दर्ज मामलों से अंडरवर्ल्ड में हड़कंप है। इस कार्रवाई के बाद मुख्तार के बेटे अब्बास अंसारी पर गिरफ्तारी की संभावना भी जताई जाने लगी है। अब्बास नेशनल शूटर रहे हैं और अब सियासतदां हैं। उधर बृजेश के बेटे सिद्धार्थ सिंह के मामले में बताया जा रहा है कि वाराणसी पुलिस विवेचना कर रही है। वह परिवार की फर्म रघुकुल कंस्ट्रक्शन के डायरेक्टर हैं।

यह भी पढ़ें–बलिया सांसद के विरुद्ध ऐसा गुस्सा!