कमलेश तिवारी मर्डरः ब्राह्मण जनसेवा मंच ने की सीबीआई जांच की मांग

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

गाजीपुर। हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की गत दिनों लखनऊ में हुई निर्मम हत्या को लेकर ब्राह्मण समाज काफी गुस्से में है। मंगलवार की शाम ब्राह्मण जन सेवा मंच की ओर से हत्या के विरोध में सरजू पांडेय पार्क में कैंडल जलाकर  गतात्मा को श्रद्धांजलि दी गई और घटना की सीबीआई जांच की मांग हुई।

इस मौके पर मंच के सदस्यों ने घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि इस सरकार में अपराधी बेलगाम हो चुके हैं। एक साजिश के तहत चुन-चुन कर हत्याअं की जा रही हैं। शासन आंखें बंद कर बैठा है। कमलेश तिवारी की हत्या पूर्व में उन्हें दी गई सरकारी सुरक्षा में कटौती का परिणाम है। अगर पर्याप्त सुरक्षा होती तो शायद उनकी जान नहीं जाती। जन सेवा मंच इस घटना की न केवल निन्दा करता है बल्कि सरकार से यह मांग करता है कि  इस घटना की सीबीआई जांच होनी चाहिए तथा दोषी अपराधियों को फांसी दी जाए। साथ ही कमलेश तिवारी के आश्रितों को सरकारी सहायता और उनके पूरे परिवार को सुरक्षा दी जाए।

श्रद्धांजलि सभा में सौरभ पांडेय, विजय शंकर पांडेय, पंकज दूबे, शशांक उपाध्याय, अनुराग तिवारी, भगवती तिवारी, मृत्युंजय मिश्र, विवेकानंद पांडेय, धर्मेंद्र तिवारी शिप्पू, अंशु पांडेय, विनीत तिवारी, ज्ञानेंद्र चौबे, अमित पांडेय, दीपक तिवारी, संतोष पांडेय,, वीरेंद्र नाथ तिवारी, रामनोज त्रिपाठी, अरविंद सप्तऋषि, विनीत पांडेय, शिवम पांडेय, अजय तिवारी, आशुतोष पांडेय, प्रेम उपाध्याय, गुड्डू मिश्र, गोलू तिवारी, हेमंत त्रिपाठी, विशाल पांडेय, आशुतोष त्रिपाठी, विनोद मिश्र, राहुल तिवारी, दीपक मिश्र, रविकांत तिवारी, राम प्रसाद तिवारी, रजनीश तिवारी आदि थे।

यह भी पढ़ें–अरे! बात मामूली, सजा-ए-मौत