सबको साथ ले कर चलते थे स्व. कैलाश यादव- सांसद अफजाल

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

। पंचायती राज मंत्री स्‍व. कैलाश यादव के चौथी पुण्‍यतिथि पर आयोजित लुटावन ग्रुप ऑफ कालेजेज के प्रांगण में रविवार को श्रद्धांजलि सभा में जनपदवासियो ने दलीय सीमाएं तोड़कर उन्‍हे भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इस श्रद्धांजलि सभा में गरीब से लेकर अमीर तक, पूर्व से लेकर वर्तमान जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। श्रद्धांजलि देते हुए सांसद अफजाल अंसारी ने कहा कि स्‍व. कैलाश यादव से मेरे परिवार का बहुत ही आत्‍मीय संबंध था। वह जमीन से जुड़े हुए नेता थे, उन्‍होने ग्राम प्रधान से लेकर पंचायती राज मंत्री के पद तक का सफर तय किया, उनकी सादगी ही उनके सफलता का राज था। श्री अंसारी ने कहा कि नेता तो बहुत हुए लेकिन नेताओं की विरासत बहुत कम लोगो ने संभाला लेकिन डा. वीरेंद्र यादव ने अपने पिता की राजनैतिक विरासत अच्‍छी तरह से संभाला है। सांसद ने कहा कि बहुत कार्यकर्ता बड़े लोगो के साथ रहकर बड़ी गलती करते है और समझते है कि वह नही जानते है। लेकिन सत्‍य यह है कि बड़े लोग कार्यकर्ता की गलती को जान कर भी नजरअंदाज कर देते है। सपा के राष्‍ट्रीय सचिव राजीव राय ने कहा कि पूर्व मंत्री स्‍व. कैलाश यादव समाजवादी पार्टी के एक मजबूत स्‍तंभ थे जिन्‍होने गांव-गिरांव के राजनीति से कैबिनेट मंत्री तक का सफर तय किया। वह आजीवन समाजवादी नीतियो पर चलकर पूरे प्रदेश अपनी पहचान बनाई थी। पूर्व एमएलसी काशीनाथ यादव ने कहा कि पूर्व मंत्री स्‍व. कैलाश यादव से भाई का संबंध था, राजनीतिक उतार-चढाव में हम दोनो लोग साथ-साथ रहकर मंजिल तक पहुंचते थे उन्‍होने अपने जीवन में कभी भी घमंड या बनावट को प्रसरय नही दिया, वह जमीनी नेता थे। जिला पंचायत अध्‍यक्ष के प्रतिनिधि विजय सिंह यादव ने कहा कि पूर्व मंत्री स्‍व. कैलाश यादव के प्रति सच्‍ची श्रद्धांजलि होगी कि उनके द्वारा बताये गये रास्‍तो पर चलकर सपा का परचम लहराये, जंगीपुर की जनता ने स्‍व. कैलाश यादव व उनके धर्मपत्‍नी और बेटे वीरेंद्र यादव को बहुत ही स्‍नेह और सम्‍मान दिया है और आगे भी आशीर्वाद देगी। कार्यक्रम में चंदौली के विधायक प्रभुनाथ यादव, पूर्व एमएलसी विजय यादव, पूर्व विधायक सिबगतुल्‍लाह अंसारी, विजय कुमार, बच्‍चा यादव, सुब्‍बा राम, डा. सानंद सिंह, राजेश राय पप्‍पू, मुन्‍नन यादव, सुदर्शन यादव, छोटू यादव, नन्‍हकू यादव, कमला यादव, दिनेश यादव, गोपाल यादव, रणजीत यादव, डा. समीर सिंह आदि लोग उपस्थित थे। आये हुए अतिथियो के प्रति आभार जंगीपुर के विधायक डा. वीरेंद्र यादव ने प्रकट किया। कार्यक्रम की अध्‍यक्षता रामधारी यादव ने किया।

उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व पंचायती राज मंत्री कैलाश यादव का चार साल पहले आज ही के दिन निधन हो गया था। गाजीपुर के जंगीपुर विधानसभा क्षेत्र से तत्कालीन सपा विधायक रहे कैलाश यादव नें गुड़गांव के मेदांता हास्पिटल में अंतिम सांसे ली थी। कैलाश यादव पूर्वान्चल में सपा के कद्दावर नेता माने जाते थे। उत्तर प्रदेश के पंचायती राज्य मंत्री रहे कैलाश यादव के न रहने से प्रदेश के राजनीति मे एक ऐसा खाली स्थान निर्मित हुआ है जिसकी भरपाई आज भी मुश्किल मानी जा रही है। गाजीपुर के जंगीपुर विधान सभा क्षेत्र के पहले विधायक कैलाश यादव की छवि एक जमीन से जुडे नेता की रही है। उन्होंने ग्राम पंचायत से पंचायतीराज मंत्री तक के सफर को तय किया था। गाजीपुर के एक छोटे से गांव जैतपुरा के मामूली किसान परिवार में 10 जुलाई 1951 को जन्मे कैलाश यादव सर्वप्रथम 1988 में ग्राम सभा के प्रधान निर्वाचित हुए।

 

तीन बार चुने गए विधायक, दो बार मिली लालबत्‍ती

1995-96 के दौरान वे जिला पंचायत के सदस्य भी रहे। फिर 1996 में 13वीं विधानसभा में सदस्य के तौर पर निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचे। 2002 में वे 14वीं विधानसभा के लिए फिर निर्वाचित हुए। 2002-03 में वे प्राक्कलन समिति के सदस्य रहे। वे 2003 में मुलायम सिंह के मंत्रीमंडल में राजस्व व औद्योगिक विकास मंत्री चुने गए। 2007 के विधानसभा चुनाव में इन्‍हे हार का समाना करना पडा। पुन: 2012 में वे सोलहवीं विधानसभा के लिए निर्वाचित होकर तीसरी बार विधानसभा पहुंचे। 2012-13 के दौरान वे प्राक्कलन समिति के सदस्य थे और फिर अखिलेश सिंह के मंत्रीमंडल में उन्हें पंचायती राज्य मंत्री की जिम्मेदारी मिली।

साल 2016 में 7 फरवरी को कैलाश यादव गाजीपुर के जैतपुरा स्थित अपने पैतृक आवास में कार्यकर्ताओं से बातचीत कर रहे थे, कि इसी दौरान उनकी तबियत अचानक खराब हो गई थी। बेहोशी की हालत में उन्हे पहले गाजीपुर जिला अस्पताल ले जाया गया था।उनकी गंभीर हालत के मद्देनजर उन्हे वाराणसी से इलाज के लिए एयर एम्बुलेंस के जरिये गुड़गांवा स्थित मेदांता अस्पताल ले जाया गया।जहां दो दिनों तक उनका इलाज चला।और उनका निधन हो गया। उनके निधन के बाद रिक्त हुई विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में उनकी पत्नी किस्मतिया देवी चुनी गई। और 2017 में पुत्र डा0वीरेंद्र यादव विरासत संभालते हुये विधायक चुने गए। हर साल 9 फरवरी के दिन सकरा स्थित लुटावन महाविद्यालय में स्व0कैलाश  यादव की पुण्यतिथि आयोजित होती है जिसमे भारी संख्या में लोग पहुच कर श्रद्धान्जलि देते हुए उन्हें याद करते हैं।

 

संबंधित ख़बरें...